मुखपृष्ठ > ज़िगोंग
SCO Summit: SCO समिट की बैठक आज से शुरू, पीएम मोदी समरकंद में पुतिन और शी जिनपिंग से कर सकते हैं मुलाकात
रिलीज़ की तारीख:2022-10-07 14:38:27
विचारों:699

समिटकीबैठकआजसेशुरूपीएममोदीसमरकंदमेंपुतिनऔरशीजिनपिंगसेकरसकतेहैंमुलाकातChanakya Niti: अगर आपकी पत्नी में भी हैं ये 5 गुण तो समझ लें आपसे ज्यादा भाग्यशाली व्यक्ति दुनिया में कोई नहीं******Highlightsआचार्य चाणक्य की नीतियों को अपनाकर आप जीवन में बेहतरी की ओर बढ़ सकते हैं। चाणक्य की नीति अपनाकर ही चंद्रगुप्त मौर्य सम्राट बन गए थे। आचार्य चाणक्य की कई शिक्षाएं और नीतियां आज के वक्त भी प्रासंगिक हैं । उनकी शिक्षाएं सफलता पाने और एक बेहतर इंसान बनने में मदद करती हैं । मान्यता है कि जो व्यक्ति आचार्य चाणक्य की नीतियों का अनुसरण करता है, वह अपने जीवन में खूब तरक्की हासिल करता है। आचार्य ने नीतिशास्त्र में कुछ गुणों के बारे में बताया है जिन स्त्रियों में ये गुण होते हैं उनके पति बहुत ही भाग्यशाली होते हैं तो आइए जानते हैं इस विषय में-कहते हैं जिस इंसान में धैर्य होता है वो जिंदगी में सबकुछ हासिल कर लेता है। इसी प्रकार आचार्य चाणक्य के नीतिशास्त्र में बताया गया है कि जिस जो महिलाएं धैर्यवान होती हैं वे किसी भी परिस्थिति में अपने परिवार पर को धुकने नहीं देती हैं। ऐसी महिला हर मुश्किल का सामना धैर्य से करती हैं और पति के लिए मजबूत ढाल बनती है। ऐसी महिला का साथ हो तो पुरुष हर चुनौती को आसानी से पार कर जाता है।चाणक्य कहते हैं कि जो महिलाएं मुश्किल समय के लिए पैसों की बचत करती हैं, उनका पति सौभाग्यशाली होता है। ऐसी महिला अपने परिवार को हर मुश्किल समय से बचाती हैं।अक्सर हम सुनते हैं कि आप मीठी बोलकर किसी भी परिस्थिति को सरल बना सकते हैं। चाणक्य जी मानते हैं कि जिसकी पत्नी मीठा बोलने वाली होती है उससे ज्यादा भाग्यशाली व्यक्ति दुनिया में कोई नहीं होता है। ऐसे गुण वाली महिलाओं से शादी करने वाला व्यक्ति बेहद ही खुशहाल जिंदगी जीता है।नीति शास्त्र के अनुसार जो महिला धार्मिक व संस्कारी होती है वो अपने बच्चे की परवरिश भी वैसे ही करती है। इसके चलते आने वाली पीढियां भी धार्मिक व संस्कारी निकलती हैं। ऐसी महिलाएं जिस घर में रहती हैं, वह घर हमेशा खुशहाल रहता है।शांत स्वभाव के लोगों पर मां लक्ष्मी की हमेशा कृपा बनी रहती है। ऐसी महिलाएं घर में हमेशा सुख-शांति बनाए रखती हैं। ये विपरित परिस्थितियों में भी अपनी सूझ-बूझ से काम लेते हैं।

समिटकीबैठकआजसेशुरूपीएममोदीसमरकंदमेंपुतिनऔरशीजिनपिंगसेकरसकतेहैंमुलाकातEncounter In Assam: असम में पुलिस और सात 'कार्बी आंगलोंग' उग्रवादियों के बीच मुठभेड़, एक जख्मी, अन्य 6 गिरफ्तार******Highlightsअसम के कार्बी आंगलोंग ज़िले में पुलिस के साथ मुठभेड़ में एक संदिग्ध उग्रवादी जख्मी हो गया और छह अन्य को पकड़ लिया गया। विशेष पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह ने बुधवार को बताया कि संदिग्ध उग्रवादी नव गठित समूह 'नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ कार्बी आंगलोंग' से संबंधित हैं। उन्होंने ट्विटर पर बताया, “ कार्बी आंगलोंग के सात युवक इकट्ठे हुए, तीन पिस्तौल खरीदीं और एक नया संगठन शुरू किया. छह को पकड़ लिया गया है।”समूह का सरगना जख्मीसिंह ने बताया कि समूह का सरगना पवित्र तेरोन पुलिस के साथ मुठभेड़ में जख्मी हुआ है। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि मुठभेड़ कब और कहां हुई थी। संपर्क करने पर कार्बी आंगलोंग ज़िले की पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अभियान अब भी चल रहा है।कार्बी असम का एक प्रमुख जातीय समूह हैबता दें, मध्य असम में स्थित कार्बी आंगलोंग राज्य का सबसे बड़ा जिला है। यहां नृजातीय तथा आदिवास समूहों- कार्बी, डिमासा, बोडो, कुकी, हमार, तिवा, गारो, मान, रेंगमा नागा, के लोग रहते हैं। कार्बी असम का एक प्रमुख जातीय समूह है, जो कई गुटों और इनके भागों से घिरा हुआ है। कार्बी समूह का इतिहास 1980 के दशक के उत्तरार्द्ध से हत्याओं, जातीय हिंसा, अपहरण और कराधान से युक्त रहा है। कार्बी आंगलोंग जिले के विद्रोही समूह- पीपुल्स डेमोक्रेटिक काउंसिल ऑफ कार्बी लोंगरी (पीडीसीके), कार्बी लोंगरी एनसी हिल्स लिबेरशन फ्रंट आदि एक अलग राज्य बनाने की मुख्य मांग से उत्पन्न हुए।समिटकीबैठकआजसेशुरूपीएममोदीसमरकंदमेंपुतिनऔरशीजिनपिंगसेकरसकतेहैंमुलाकातJharkhand news: भाजपा ने JMM पर साधा निशाना, कहा- राज्य में सत्तारूढ़ पार्टी के शासन में महिलाएं सुरक्षित नहीं******Highlights भारतीय जनता पार्टी( BJP) ने झारखंड सरकार पर हमला करते हुए राज्य में महिलाओं के ‘सुरक्षित नहीं होने’ का दावा किया। उन्होंने यह आरोप लगाते हुए जानना चाहा कि एक व्यक्ति द्वारा कथित रूप से जिंदा जलाए जाने से हुई 12वीं कक्षा की एक छात्रा की मौत के मामले में सीएम हेमंत सोरेन चुप्पी क्यों साधे हुए हैं। झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुबर दास और बाबूलाल मरांडी सहित भाजपा के अन्य नेताओं ने इस जघन्य अपराध में शामिल व्यक्ति के खिलाफ फास्ट ट्रैक अदालत में मुकदमा चलाकर उसे सजा दिलाने की मांग की।हालांकि, सत्तारूढ़ झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) ने आरोप लगाया कि भाजपा मामले को लेकर ‘साम्प्रदायिक राजनीति’ करने का प्रयास कर रही है और कहा कि सरकार भी इस घटना में शामिल व्यक्ति के लिए कड़ी सजा चाहती है। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दास ने कहा, ‘‘एक युवती को जिंदा जलाकर मार डाला गया, लेकिन मुख्यमंत्री चुप्पी साधे हुए हैं। क्या यह तुष्टिकरण की नीति नहीं है? हमने रांची हिंसा मामले में आरोपी नदीम (अंसारी) को एयर एम्बुलेंस से दिल्ली ले जाते हुए देखा ताकि सरकारी खर्च पर उसका बेहतर इलाज हो सके, जबकि झुलसी 19 साल की युवती का ठीक से ख्याल नहीं रखा गया।’’छात्रा की हत्या के सिलसिले में दास ने पीड़ित परिवार को एक करोड़ रुपये का मुआवजा और निकट परिजन को सरकारी नौकरी देने की मांग की। गौरतलब है कि 23 अगस्त को दुमका में एकतरफा प्रेम के मामले में आरोपी शाहरुख ने युवती के कमरे में खिड़की से पेट्रोल उड़ेलकर आग लगा दी। इस घटना में बुरी तरह झुलस गई युवती की रविवार को यहां स्थित एक अस्पताल में मौत हो गई। इस मामले में भाजपा ने आरोपी के खिलाफ फास्ट ट्रैक कोर्ट में मुकदमा चलाने की मांग की।

SCO Summit: SCO समिट की बैठक आज से शुरू, पीएम मोदी समरकंद में पुतिन और शी जिनपिंग से कर सकते हैं मुलाकात

समिटकीबैठकआजसेशुरूपीएममोदीसमरकंदमेंपुतिनऔरशीजिनपिंगसेकरसकतेहैंमुलाकातManikarnika Box Office Collection: कंगना रनौत की फिल्म 100 करोड़ रुपये के क्लब में हुई शामिल****** की फिल्म '' 100 करोड़ रुपये के क्लब में शामिल हो गई है। फिल्म को बॉक्स-ऑफिस पर 'उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक' और 'गली बॉय' से कड़ी टक्कर मिल रही है, लेकिन इसके बावजूद फिल्म 100 करोड़ रुपये कमाने में कामयाब हो गई है।बॉक्स ऑफिस इंडिया ने लिखा- ''मणिकर्णिका चौथे रविवार को 100 करोड़ रूपये के क्लब में शामिल हो गई है। पहले हफ्ते 61.51 करोड़ रुपये, दूसरे हफ्ते 24.39 करोड़ रुपये, तीसरे हफ्ते 11.64 करोड़ रुपये, वीकेंड 4- शुक्रवार 2.51 करोड़ रुपये, शनिवार 0.47 करोड़ रुपये, शनिवार 0.65 करोड़ रुपये, रविवार 1.39 करोड़ रुपये। कुल- 100.05 करोड़ रुपये।''फिल्म की सफलता पर कंगना ने कहा था- ''कमर्शियल सक्सेस ने बतौर डायरेक्टर मेरी पहली फिल्म को और खास बना दिया है। मणिकर्णिका को लोगों ने पसंद किया है और इसने रानी लक्ष्मीबाई की विरासत के साथ न्याय किया है।''कंगना की बहन रंगोली चंदेल ने ट्वीट कर अपनी खुशी ज़ाहिर की।फिल्म भारत के 3000 स्क्रीन्स और विदेशों के 700 स्क्रीन पर रिलीज़ हुई है। फिल्म हिंदी, तेलुगू और तमिल भाषाओं में रिलीज़ हुई है।फिल्म में कंगना के अलावा अंकिता लोखंडे, मिष्टी चक्रवर्ती, रिचर्ड कीप, जिशू सेनगुप्ता, डैनी, सुरेश ओबेरॉय, अतुल कुलकर्णी भी हैं।'मणिकर्णिका' के साथ नवाजुद्दीन सिद्दीकी की 'ठाकरे' भी रिलीज़ हुई थी। फिल्म शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे की ज़िंदगी पर आधारित थी।कंगना की आने वाली फिल्म राजकुमार राव के साथ 'मेंटल है क्या' है। इसे साथ ही वह अपनी बायोपिक भी खुद डायरेक्ट करेंगी।समिटकीबैठकआजसेशुरूपीएममोदीसमरकंदमेंपुतिनऔरशीजिनपिंगसेकरसकतेहैंमुलाकातभारत के हथियार बाजार में घटी रूस की चमक, 2014 से 18 के बीच अमेरिका और फ्रांस से बढ़ा आयात******हथियार खरीद के मामले में भारत का पुराना साथी रहे की हिस्‍सेदारी पिछले पांच साल में तेजी से घटी है। हथियार बाजार पर एक ताजा रिपोर्ट के अनुसार भारत के हथियारों के आयात में पिछले चार साल में रूस की हिस्सेदारी घटी है। एक रिपोर्ट के अनुसार 2009-13 के बीच देश के कुल हथियार आयात में रूस से आयातित हथियारों की हिस्सेदारी 76 फीसदी थी जो 2014-18 में घटकर 58 फीसदी रह गई। वहीं वित्त वर्ष 2014-18 के बीच अमेरिका और फ्रांस से भारत को हथियारों का निर्यात बढ़ा है।स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीपरी) की ‘अंतरराष्ट्रीय हथियार लेन-देन का रुख-2018’ रपट में यह जानकारी दी गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पूरी कोशिश हथियारों के मामले में देश की आयात पर निर्भरता को खत्म करना है। रपट के अनुसार 2009-13 के मुकाबले 2014-18 में देश में हथियारों का आयात 24 प्रतिशत तक घटा है।आयात के आंकड़ों में कमी की एक अहम वजह विदेशी हथियारों की आपूर्ति में देरी होना भी है। जैसे कि रूस को लड़ाकू विमान का ऑर्डर 2001 में और फ्रांस को पनडुब्बी का ऑर्डर 2008 में दिया गया था। हालांकि इन सबके बावजूद भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा हथियार आयातक है। वैश्विक हथियार आयात में भारत का हिस्सा साढ़े नौ प्रतिशत के करीब है।समिटकीबैठकआजसेशुरूपीएममोदीसमरकंदमेंपुतिनऔरशीजिनपिंगसेकरसकतेहैंमुलाकातShani Pradosh Vrat 2021: आज शनि प्रदोष व्रत, इस मुहूर्त में करें भगवान शिव और शनिदेव की पूजा, जानें व्रत कथा******वैशाख कृष्ण पक्ष की उदया तिथि त्रयोदशी को रखा जाता है। प्रत्येक महीने की त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत करने का विधान है, साथ ही वार के हिसाब से यह जिस दिन पड़ता है, उसी के अनुसार इसका नामकरण होता है | इस बार शनिवार के दिन प्रदोष व्रत है, इसलिए आज शनि प्रदोष व्रत किया जायेगा। प्रत्येक प्रदोष व्रत के दिन भगवान शंकर की पूजा की जाती है, लेकिन शनि प्रदोष होने से आज के दिन शनिदेव की विशेष रूप से उपासना की जायेगी |प्रदोष काल उस समय को कहा जाता है, जब दिन छिपने लगता है, यानी सूर्यास्त के ठीक बाद वाले समय और रात्रि के प्रथम प्रहर को प्रदोष काल कहा जाता है। जानिए शनि प्रदोष व्रत का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और व्रत कथा। 8 मई 2021 को शाम 5 बजकर 20 मिनट से शुरू 9 मई 2021 शाम 7 बजकर 30 मिनट तक 08 मई शाम 07 बजकर रात 09 बजकर 07 मिनट तकप्रदोष व्रत सूर्योदय से लेकर रात के प्रथम पहर तक किया जाता है। इस दौरान अन्न नहीं खाया जाता। सुबह सूर्योदय से पूर्व उठकर स्नान आदि से निवृत होकर सबसे पहले शिव जी की पूजा के लिये किसी शिव मंदिर में जायें। वहां जाकर सबसे पहले भगवान शिव के साथ माता पार्वती और नंदी को प्रणाम करें। फिर पंचामृत व गंगाजल से शिव जी को स्नान कराकर साफ जल से स्नान करायें। बेल पत्र, गंध, अक्षत, पुष्प, धूप, दीप, नैवेद्य, फल, पान, सुपारी, लौंग, इलायची आदि से भगवान का पूजन करें और हर बार एक चीज़ चढ़ाते हुए ‘ऊं नमः शिवाय’ का जाप करें । इस दिन भगवान शिव को घी और शक्कर मिले जौ के सत्तू का भोग लगाएं और शिवजी के आगे घी का दीपक जलाएं।जो संतान पाना चाहते हैं उन दम्पति को तो प्रदोष व्रत जरूर करना चाहिए और दोनों को साथ में पूरे विधि-विधान से शिव जी की पूजा करनी चाहिए। भगवान की कृपा से आपके घर में जल्द ही किलकारियां गूंजेगी। इस तरह शिव पूजन के बाद शनिदेव की भी पूजा करें और पीपल के पेड़ में जल जरूर चढ़ाएं, साथ ही एक तेल का दिया भी जलाएं और शनि के 108 नामों का जाप करें। शनि के दर्शन के समय एक बात का ध्यान रखें कि शनिदेव के दर्शन कभी भी सामने से न करें, हमेशा पीछे से ही करें।स्कंद पुराण के अनुसार प्राचीन काल में एक विधवा ब्राह्मणी अपने पुत्र को लेकर भिक्षा लेने जाती और संध्या को लौटती थी। एक दिन जब वह भिक्षा लेकर लौट रही थी तो उसे नदी किनारे एक सुन्दर बालक दिखाई दिया जो विदर्भ देश का राजकुमार धर्मगुप्त था। शत्रुओं ने उसके पिता को मारकर उसका राज्य हड़प लिया था। उसकी माता की मृत्यु भी अकाल हुई थी। ब्राह्मणी ने उस बालक को अपना लिया और उसका पालन-पोषण किया।कुछ समय पश्चात ब्राह्मणी दोनों बालकों के साथ देवयोग से देव मंदिर गई। वहां उनकी भेंट ऋषि शाण्डिल्य से हुई। ऋषि शाण्डिल्य ने ब्राह्मणी को बताया कि जो बालक उन्हें मिला है वह विदर्भदेश के राजा का पुत्र है जो युद्ध में मारे गए थे और उनकी माता को ग्राह ने अपना भोजन बना लिया था। ऋषि शाण्डिल्य ने ब्राह्मणी को प्रदोष व्रत करने की सलाह दी। ऋषि आज्ञा से दोनों बालकों ने भी प्रदोष व्रत करना शुरू किया।एक दिन दोनों बालक वन में घूम रहे थे तभी उन्हें कुछ गंधर्व कन्याएं नजर आई। ब्राह्मण बालक तो घर लौट आया किंतु राजकुमार धर्मगुप्त "अंशुमती" नाम की गंधर्व कन्या से बात करने लगे। गंधर्व कन्या और राजकुमार एक दूसरे पर मोहित हो गए, कन्या ने विवाह करने के लिए राजकुमार को अपने पिता से मिलवाने के लिए बुलाया। दूसरे दिन जब वह दुबारा गंधर्व कन्या से मिलने आया तो गंधर्व कन्या के पिता ने बताया कि वह विदर्भ देश का राजकुमार है। भगवान शिव की आज्ञा से गंधर्वराज ने अपनी पुत्री का विवाह राजकुमार धर्मगुप्त से कराया।इसके बाद राजकुमार धर्मगुप्त ने गंधर्व सेना की सहायता से विदर्भ देश पर पुनः आधिपत्य प्राप्त किया। यह सब ब्राह्मणी और राजकुमार धर्मगुप्त के प्रदोष व्रत करने का फल था। स्कंदपुराण के अनुसार जो भक्त प्रदोषव्रत के दिन शिवपूजा के बाद एक्राग होकर प्रदोष व्रत कथा सुनता या पढ़ता है उसे सौ जन्मों तक कभी दरिद्रता नहीं होती।

SCO Summit: SCO समिट की बैठक आज से शुरू, पीएम मोदी समरकंद में पुतिन और शी जिनपिंग से कर सकते हैं मुलाकात

समिटकीबैठकआजसेशुरूपीएममोदीसमरकंदमेंपुतिनऔरशीजिनपिंगसेकरसकतेहैंमुलाकातमान्यता दत्त की मराठी फिल्म 'बाबा' ने हासिल किए 3 फिल्मफेयर पुरस्कार******की पत्नी प्रोड्यूसर भी हैं और उनके प्रोडक्शन हाउस सेमराठी फिल्म 'बाबा' बनी थी। इस फिल्म नेफिल्मफेयर अवार्डस में बड़ी जीत हासिल की है। मान्यता दत्त प्रोडक्शन के वेंचर ने प्लेनेट मराठी फिल्मफेयर अवार्डस, 2020 में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता, सर्वश्रेष्ठ कहानी और सर्वश्रेष्ठ फिल्म क्रिटिक्स जैसे 3 फिल्मफेयर पुरस्कार अपने नाम कर लिए हैं। मान्यता दत्त ने कहा, "एक फिल्म के रूप में बाबा मेरे दिल के बहुत करीब हैं, क्योंकि यह फिल्म संजय दत्त प्रोडक्शंस की पहली क्षेत्रीय परियोजना को भी चिह्न्ति करती है। हमें मिले प्यार और प्रशंसा के लिए आभार व्यक्त करना चाहती हूं। सबसे बड़ा सम्मान उस टीम को जाता है, जिसने अपने क्राफ्ट के साथ कहानी को जीवंत करने के लिए बहुत मेहनत की है।"उन्होंने आगे कहा, "ऐसे क्षण हमें अच्छा काम करने और अपने काम के साथ दर्शकों का मनोरंजन करते रहने के लिए प्रोत्साहित करते हैं।"फिल्म 'बाबा' ने केवल मान्यता को ही नहीं, बल्कि भारत को भी गर्व महसूस करवाया है, जब वह गोल्डन ग्लोब के लिए नामित होने वाली पहली मराठी फिल्म बन गई और प्रतिष्ठित समारोह में प्रदर्शित की गई थी।नागपुरकर राज आर गुप्ता द्वारा निर्देशित इस फिल्म में दीपक डोबरियाल और नंदिता पाटकर ने मुख्य भूमिका निभाई है। संजय दत्त प्रोडक्शन के बैनर तले बनी इस फिल्म का निर्माण मान्यता दत्त ने किया है।समिटकीबैठकआजसेशुरूपीएममोदीसमरकंदमेंपुतिनऔरशीजिनपिंगसेकरसकतेहैंमुलाकातबैंक कर्मचारियों के लिए आई खुशखबरी, हर साल 15% बढ़ेगा वेतन और 2017 से मिलेगा एरियर******bank unions, IBA agree on 15 percent annual wage hikeलगभग तीन साल तक चली लंबी बातचीत के बाद बैंक कर्मचारियों की यूनियनों और इंडियन बैंक एसोसिएशन (आईबीए) हर साल कर्मचारियों के वेतन में 15 प्रतिशत वृद्धि करने पर सहमत हो गए हैं। इस फैसले से बैंकों पर हर साल 7900 करोड़ रुपए का अतिरिक्‍त बोझ पड़ेगा। इस वेतन वृद्धि से देशभर में 8.5 लाख बैंक कर्मचारियों को फायदा होगा। यह वेतन वृद्धि 2017 से लागू की जाएगी। बुधवार को हुए समझौते के तहत अब सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक कर्मचारियों को भी प्रदर्शन आधारित इनसेंटिव (पीएलआई) दिया जाएगा। पीएलआई का निर्धारण व्‍यक्तिगत बैंक के ऑपरेशन या शुद्ध लाभ पर निर्भर होगा। महंगाई भत्‍ते के साथ मिला दिया गया है। सार्वजनिक, प्राइवेट और विदेशी बैंकों सहित कुल 37 बैंकों ने अपने कर्मचारियों के लिए वेतन वृद्धि पर यूनियनों के साथ बातचीत के लिए आईबीए को जिम्‍मेदारी सौंपी थी।आईबीए और बैंक यूनियनों के बीच हुए समझौते के तहत वेतन व भत्‍तों में हर साल 15 प्रतिशत का इजाफा होगा और यह वेतन वृद्धि 31 मार्च, 2017 से लागू होगी। सार्वजनिक बैंकों के लिए प्रदर्शन आधारित इनसेंटिव की शुरुआत चालू वित्‍त वर्ष से होगी, जबकि यह प्राइवेट और विदेशी बैंकों के लिए वैकल्पिक होगा। न्‍यू पेंशन स्‍कीम फंड में बैंकों का योगदान भी वर्तमान 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 14 प्रतिशत किया जाएगा। समझौते के तहत इसके लिए सरकार से अनुमति मांगी जाएगी। आईबीए के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी सुनील मेहता ने कहा कि आज आईबीए और यूएफबीयू एक समझौते पर हस्‍ताक्षर किए हैं, जिसके तहत बैंक कर्मचारियों को हर साल 15 प्रतिशत वेतन वृद्धि दी जाएगी, फैमिली पेंशन के लिए सीमा को समाप्‍त करने और मूल वेतन का 30 प्रतिशत करने को भी सैद्धांतिक मंजूरी दी गई। ऑल इंडिया बैंक एम्‍प्‍लॉइज एसोसिएशन के जनरल सेक्रेटरी सीएच वेंकटचलम ने कहा कि 35 दौर की बातचीत के बाद परिणाम संतोषजनक है। उन्‍होंने कहा कि वेतन वृद्धि और भत्‍तों को लागू करने की विस्‍तृत जानकारी को अगले कुछ दिनों में अंतिम रूप दिया जाएगा। 2018 में आईबीए ने केवल 2 प्रतिशत वेतन वृद्धि की पेशकश की थी। इसके बाद बैंक युनियनों ने इसका विरोध किया और उसी साल 30 मई को दो दिन की हड़ताल पर चली गईं।समझौते में कहा गया है कि वर्तमान बैंकिंग परिदृश्‍य में सरकारी, प्राइवेट और विदेशी बैंकों के बीच काफी प्रतिस्‍पर्धा है। प्रतिस्‍पर्धा के बीच बेहतर प्रदर्शन को प्रोत्‍साहित करने के लिए प्रदर्शन आधारित इनसेंटिव की पेशकश सरकारी बैंक कर्मचारियों के लिए की गई है। यदि किसी बैंक का परिचालन लाभ 5 प्रतिशत से कम रहेगा तो उसके कर्मचारियों को कोई इनसेंटिव नहीं मिलेगा।यदि बैंक का परिचालन लाभ वार्षिक आधार पर 5 से 10 प्रतिशत के बीच रहता है तो कर्मचारियों को अतिरिक्‍त 5 दिन का वेतन दिया जाएगा। यदि परिचालन लाभ 15 प्रतिशत से अधिक रहता है तो उस बैंक के कर्मचारियों को 15 दिन का वेतन अतिरिक्‍त दिया जाएगा।

SCO Summit: SCO समिट की बैठक आज से शुरू, पीएम मोदी समरकंद में पुतिन और शी जिनपिंग से कर सकते हैं मुलाकात

समिटकीबैठकआजसेशुरूपीएममोदीसमरकंदमेंपुतिनऔरशीजिनपिंगसेकरसकतेहैंमुलाकातVijay Mallya: विजय माल्या से जुड़े एक मामले में सोमवार को फैसला सुनाएगा सुप्रीम कोर्ट, आदेश के बाद भी नहीं हुआ था पेश******Highlights भगोड़े कारोबारी विजय माल्या की भारत में दिक्त्तें और भी बढ़ सकती हैं। न्यायालय की अवमानना के मामले में कल सोमवार को सुप्रीम कोर्ट फैसला सुनाएगा। इस मामले में फैसला जस्टिस यूयू ललित की अगुवाई वाली तिन जजों की बेंच सुनाएगी। अगर इस केस में माल्या के खिलाफ फैसला सुनाया जाता है तो जांच एजेंसियों पर माल्या को वापस देश लाने का और भी दवाब बढ़ेगा।दरअसल, भारतीय स्टेट बैंक ने विजय माल्या के खिलाफ कोर्ट के आदेश के बावजूद बकाया न चुकाने की अर्जी दी थी। इस मामले को जस्टिस यूयू ललित तिन जजों वाली बेंह ने सुनवाई की थी। जस्टिस ललित के साथ पीठ में जस्टिस एस रविंद्र भट्ट और जस्टिस सुधांशु धूलिया शामिल हैं। कोर्ट ने 10 मार्च को माल्या की सजा पर फैसला सुरक्षित रखा था। सुप्रीम कोर्ट ने 5 साल पहले 9 मई 2017 को विजय माल्या को कोर्ट के आदेश की अवमानना का दोषी मानते हुए सुनवाई शुरू की थी। दरअसल, विजय माल्या ने अपनी संपत्ति का पूरा ब्योरा उन बैंकों और संबंधित प्राधिकरणों को नहीं दिया था, जिनसे उसने करोड़ों-अरबों रुपयों का कर्ज लिया था।इस मामले में बैंकों और प्राधिकरणों का पक्ष सुनने के बाद कोर्ट ने 10 जुलाई 2017 को माल्या को कोर्ट के समक्ष पेश होने का आदेश दिया था। जिसके बाद न तो वह पेश हुआ और न ही उसकी तरफ से कोई वकील पीठ के समक्ष आया। जिसके बाद कोर्ट ने कहा था कि ब्रिटेन में माल्या एक आजाद इंसान की तरह रहता है, लेकिन वो वहां क्या कर रहा है, इस बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं है।गौरतलब है कि विजय माल्या पर उनके किंगफिशर एयरलाइन (Kingfisher Airline) से जुड़े नौ हजार करोड़ रुपये के बैंक ऋण घोटाले (bank loan scam) में शामिल होने का आरोप है। जिसके बाद वह देश छोड़करभाग गया था और इस समय वह ब्रिटेन में रह रहा है।

समिटकीबैठकआजसेशुरूपीएममोदीसमरकंदमेंपुतिनऔरशीजिनपिंगसेकरसकतेहैंमुलाकात6 चीजों के साथ बिल्कुल ना खाएं दही, फायदे की जगह सेहत को होगा नुकसान******खाने के साथ अगर एक कटोरी दही मिल जाए तो पूरे खाने का स्वाद दोगुना हो जाता है। कई लोग दही में जीरा और नमक डालकर खाते हैं। वहीं कुछ लोग कोई भी खाने की चीज दही में डालकर फटाफट खा लेते हैं। अगर आप भी दही में मिलाकर कुछ भी खा लेते हैं तो सावधान हो जाइए। ऐसा इसलिए क्योंकि दही के साथ कुछ भी मिलाकर खाना आपकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है। जानिए दही के साथ किन चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए। साथ ही जानें कि इसका सेहत पर क्या असर पड़ता है।कई लोगों को आपने देखा होगा कि वो दही में प्याज डालकर खूब खाते हैं। अगर आप भी दही और प्याज को मिलाकर खाते हैं तो आज ही ये आदत छोड़ दें। ऐसा इसलिए क्योंकि इन दोनों की तासीर अलग-अलग होती है। ऐस में इन्हें एक साथ मिलाकर खाने से आपकी सेहत पर खराब असर पड़ सकता है। इन दोनों को एक साथ खाने की वजह से दाद, खाज, खुजली, एग्जिमा और पेट से संबंधित कई बीमारियां आपको घेर सकती हैं।इस वक्त बाजार में आपको आम खूब मिल जाएगा। कई लोगों को आम और दही इतना ज्यादा पसंद होता है कि वो दोनों को एक साथ मिलाकर खाते हैं। अगर आप भी ऐसा करते हैं तो सावधान हो जाइए। ऐसा इसलिए क्योंकि दोनों को एक साथ मिलाकर खाने से ये शरीर के लिए टॉक्सिन बन जाते हैं। जिसकी वजह इन दोनों की तासीर का एक दूसरे से अलग होना है।दही के साथ उड़द की दाल बिल्कुल भी नहीं खाना चाहिए। दोनों पेट में जाकर शरीर को बहुत नुकसान पहुंचाते हैं। जिसके कारण लूज मोशन, सूजन और एसिडिटी की समस्याएं हो सकती हैं।आमतौर पर घरों में देखा गया है कि पराठों के साथ दही बड़े चाव के साथ खाया जाता है, लेकिन ऐसा नहीं करना चाहिए। इससे पाचन पर असर पड़ता है। इसलिए अगर आप भी पराठे के साथ दही को खाते हैं तो ये आदत बदल लें।मछली को भी दही के साथ भी नहीं खाना चाहिए। इससे शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है। कई तरह की बीमारियां घेर लेती हैं। जैसे कि पेट दर्द और अपच की समस्या।कई लोग दूध और दही का भी सेवन एक साथ करते हैं। ऐसा ना करें। दूध और दही दोनों का एक साथ सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से एसिडिटी, गैस और उल्टी की समस्या होने लगती है। साथ ही डाइजेशन की समस्या भी हो सकती है।Disclaimer: यह जानकारी आयुर्वेदिक नुस्खों के आधार पर लिखी गई है। इंडिया टीवी इनके सफल होने या इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं करता है। इनके इस्तेमाल से पहले चिकित्सक का परामर्श जरूर लें।समिटकीबैठकआजसेशुरूपीएममोदीसमरकंदमेंपुतिनऔरशीजिनपिंगसेकरसकतेहैंमुलाकातBihar Politics : 'यह बिल्कुल मजाक और फर्जी बात है' उपराष्ट्रपति बनने की इच्छा पर बोले नीतीश, सुशील मोदी ने किया था दावा******Highlightsबिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीजेपी नेता और पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी के आरोप पर पलटवार किया है। उन्होंने सुशील मोदी का नाम लिए बिना कहा कि आपने एक आदमी को यह कहते सुना कि मैं उपराष्ट्रपति बनना चाहता था। यह बिल्कुल मजाक और फर्जी बात है। मेरी ऐसी कोई इच्छा नहीं थी। क्या वे भूल गए कि हमने उन्हें राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के चुनावों में कितना समर्थन दिया? वे इसलिए मेरे खिलाफ बोल रहे हैं ताकि उन्हें फिर से जगह मिल सके।बता दें कि कल एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में सुशील मोदी ने कहा था कि नीतीश कुमार उपराष्ट्रपति बनना चाहते थे। उन्होंने कहा था कि जेडीयू के कुछ बड़े नेता बीजेपी हाईकमान के पास पहुंचे थे और अपने नेता को उपराष्ट्रपति बनाने की बात कही थी। उन्होंने यह भी कहा था कि बीजेपी ने जब उनकी मांग को खारिज कर दिया तब उन्होंने बिहार में बीजेपी के साथ गठबंधन को तोड़ लिया।

समिटकीबैठकआजसेशुरूपीएममोदीसमरकंदमेंपुतिनऔरशीजिनपिंगसेकरसकतेहैंमुलाकातआजम खान के बेटे अब्दुल्ला ने कहा, मुसलमान होने के चलते मेरे पिता पर चुनाव आयोग ने लगाया बैन?****** के नेता पर विवादित बयान के चलते चुनाव आयोग द्वारा 72 घंटों का बैन लगने के बाद उनके बेटे ने इसे भेदभावपूर्ण कार्रवाई बताया है। अब्दुल्ला आजम ने चुनाव आयोग पर एकतरफा कार्रवाई के आरोप लगाते हुए कहा है कि उनके पिता पर मुसलमान होने के चलते बैन लगाया गया है। अब्दुल्ला ने यह भी कहा कि आजम खान ने पर बयान नहीं दिया था। आपको बता दें कि अब्दुल्ला रामपुर की स्वार सीट से समाजवादी पार्टी के विधायक हैं।आजम खान के चुनाव प्रचार पर 72 घंटे का बैन लगने के बाद उनके बेटे अब्दुल्ला ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'बैन लगाकर खामोश नहीं कर सकते हैं। ने हमारे ऊपर एकतरफा कार्रवाई की है।' उन्होंने कहा कि मुसलमान होने के चलते उनके पिता आजम खान पर बैन लगाया गया है। अब्दुल्ला ने कहा, 'उन्होंने जया प्रदा पर बयान नहीं दिया था लेकिन चुनाव आयोग ने सफाई तक का मौका नहीं दिया। मैं जानता हूं कि मोदी को खुश करने के लिए आयोग ने बैन लगाया है।'उत्तर प्रदेश की रामपुर लोकसभा सीट से सपा-बसपा गठबंधन के संयुक्त प्रत्याशी आजम खान के भाजपा प्रत्याशी जयाप्रदा के खिलाफ एक तथाकथित विवादित बयान को लेकर FIR भी दर्ज की गई। वहीं, इसपर कार्रवाई करते हुए चुनाव आयोग ने उनके 3 दिन तक चुनाव प्रचार करने पर रोक लगा दी है। आयोग ने खान के आपत्तिजनक बयान को चुनाव आचार संहिता उल्लंघन माना और कड़ी फटकार भी लगाई। इस बैन के चलते आजम अपने क्षेत्र में चुनाव प्रचार नहीं कर पाएंगे, जबकि रामपुर में 18 अप्रैल को ही चुनाव होने हैं।सोशल मीडिया पर वायरल सामग्री के अनुसार खान ने अपनी चुनाव रैली में कहा था, 'रामपुर वालों, उत्तर प्रदेश वालों, हिन्दुस्तान वालों, उसकी असलियत समझने में आपको 17 बरस लग गये। मैं 17 दिनों में पहचान गया कि इनके नीचे का जो अंडरवियर है वह खाकी रंग का है।' हालांकि आजम ने एक दिन बाद सफाई देते हुये कहा कि उन्होंने अपने भाषण में किसी का नाम नहीं लिया और अगर किसी का नाम लिया हो तो वह नहीं लड़ेंगे।समिटकीबैठकआजसेशुरूपीएममोदीसमरकंदमेंपुतिनऔरशीजिनपिंगसेकरसकतेहैंमुलाकातAssam Flood: बाढ़ग्रस्त नदी से बचाई 4 जिंदगियां, असम में बाढ़ से अभी भी 40 हजार से ज्यादा लोग प्रभावित******Highlightsअसम में बाढ़ से बिगड़े हालात सुधर तो रहे हैं, लेकिन अभी भी 40, 700 लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। इसी बीच ​राज्य के चिरांग जिले में नांगल भंगा नदी का जलस्तर बढ़ जाने से उस पर बना पुल जो बांस का बना था, वो बह गया। इस दौरान पुल पर 4 लोग मौजूद थे, जो फंस गए। उन्हें स्थानीय लोगों ने मशक्कत के बाद बचा लिया। पिछले कुछ दिन से लगातार बारिश के चलते नदी का जलस्तर काफी बढ़ गया है।कछार और मोरीगांव सबसे ज्यादा प्रभावितअसम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) के अनुसार राज्य के कछार और मोरीगांव जिलों में 40 हजार से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं। सबसे ज्यादा प्रभावित गांव मोरीगांव है, जहां 30 हजार 400 लोगों को बाढ़ से क्षति पहुंची है। जानकारी के अनुसार इस समय राज्य के करीब 137 गांव जलमग्न हो गए हैं। वहीं 6,029.50 हेक्टेयर कृषि भूमि डूब गई है। राज्य में इस साल बाढ़ और भूस्खलन से कुल 38 लोगों की मौत हुई है।हर साल बाढ़ से प्रभावित होता है असमअसम राज्य में हर साल बाढ़ आती है। जिस तरह बिहार का शोक कोसी नदी को कहा जाता है, उसी तरह ब्रह्मपुत्र को असम का शोक कहा जा सकता है, हालांकि इस बार स्थानीय नदियों में बाढ़ से हालात ज्यादा प्रभावित हुए हैं। असम में तटबंधी का काम भी हाल के वर्षों में किया गया है। बाढ़ से बचने के लिए हर साल शासन और प्रशासन अपनी ओर से उपाय करते हैं, लेकिन बाढ़ जब बढ़ जाती है, तो जिंदगियां प्रभावित हो जाती हैं। जान माल का नुकसान इस राज्य के हर साल की कहानी है।

समिटकीबैठकआजसेशुरूपीएममोदीसमरकंदमेंपुतिनऔरशीजिनपिंगसेकरसकतेहैंमुलाकातBharat Bandh 2022: 25 मई को भारत बंद! जानें किसने बुलाया और कहां पड़ेगा असर?******Highlightsऑल इंडिया बैकवर्ड एंड माइनॉरिटी कम्युनिटीज एम्प्लाइज फेडरेशन (BAMCEF) ने 25 मई (बुधवार) को भारत बंद बुलाया है। ये भारत बंद केंद्र सरकार द्वारा अन्य पिछड़ी जातियों की जाति आधारित जनगणना कराने से मना करने की वजह से किया जा रहा है। इस बात की जानकारी बहुजन मुक्ति पार्टी (BMP) के सहारनपुर जिलाध्यक्ष नीरज धीमान ने दी है।नीरज ने इसके अलावा कई और मांगें भी बताई हैं, जिसकी वजह से भारत बंद (Bharat Bandh 2022) बुलाया गया है। इन मांगों में चुनावों में ईवीएम से जुड़ी गड़बड़ियां, निजी क्षेत्रों में एससी-एसटी और ओबीसी के लिए आरक्षण को लागू न करना समेत कई बातें कही गई हैं।इस भारत बंद के लिए बहुजन मुक्ति पार्टी और ऑल इंडिया बैकवर्ड एंड माइनॉरिटी कम्युनिटीज एम्प्लाइज फेडरेशन (BAMCEF) मिलकर काम कर रहे हैं। इन्हें बहुजन क्रांति मोर्चा का भी समर्थन मिला है।इस भारत बंद (Bharat Bandh 2022) का असर दुकानों और पब्लिक ट्रांसपोर्ट पर हो सकता है, जिसकी वजह से आम जनता को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।भारत बंद बुलाने वाले लोगों ने सोशल मीडिया के माध्यम से दुकानदारों से अपील की है कि वे अपनी दुकानों को बुधवार को बंद रखें।समिटकीबैठकआजसेशुरूपीएममोदीसमरकंदमेंपुतिनऔरशीजिनपिंगसेकरसकतेहैंमुलाकातकार-मोटरसाइकिल मालिक हो जाएं सावधान, HSRP न होने पर 15 अप्रैल के बाद कटेगा 5000 रुपये का चालान******car motorcycle owners pay Rs 5000 challan if not have HSRP after 15 April उत्‍तर प्रदेश के नोएडा में रहने वाले वाहन मालिक सावधान हो जाएं। हाई सिक्‍योरिटी नंबर प्‍लेट (HSRP) लगवाने की अंतिम तिथि 15 अप्रैल कल खत्‍म होने वाली है। राज्‍य सरकार ने अनिवार्य एचएसआरपी को लेकर अपनी कमर कस ली है। गौतमबुद्ध नगर जिले में वाहन मालिक एचएसआरपी को लेकर ज्‍यादा सजगता नहीं दिखा रहे हैं। इसलिए जिला प्रशासन ने 15 अप्रैल के बाद बिना एचएसआरपी वाले वाहनों के लिए 5000 रुपये चालान की घोषणा की है। फरवरी के पहले हफ्ते तक, गौतमबुद्ध नगर में कुल वाहनों में से केवल 21 प्रतिशत वाहनों में ही लग पाई थी। गौतमबुद्ध नगर में 7.5 लाख वाहन रजिस्‍टर्ड हैं, जिसमें से केवल 1.60 लाख वाहनों ने ही हाई सिक्‍यूरिटी नंबर प्‍लेट लगवाई है।गौतमबुद्ध नगर के ट्रांसपोर्ट अधिकारी ने बताया कि सरकार ने हाई सिक्‍यूरिटी नंबर प्‍लेट लगवाने के लिए जिले में 15 अप्रैल, 2021 अंतिम तिथि घोषित की है। इसके बाद जिन वाहनों में हाई सिक्‍यूरिटी नंबर प्‍लेट नहीं होगी, उन वाहन मालिकों के खिलाफ सख्‍त कार्रवाई की जाएगी। एचएसआरपी लेने के लिए वाहन मालिकों को ऑनलाइन बुकिंग करवानी होगी। नए वाहन डीलर-फ‍िटेड हाई सिक्‍यूरिटी नंबर प्‍लेट के साथ आ रहे हैं।गौतमबुद्ध नगर जिले के आरटीओ एडमिनिस्‍ट्रेशन ऑफ‍िसर एके पांडे ने कहा कि सरकार ने आदेश दिया है कि प्रत्‍येक वाहन मालिक को 15 अप्रैल या इससे पहले अपने वाहनों में हाई सिक्‍यूरिटी नंबर प्‍लेट लगवाना अनिवार्य है। 15 अप्रैल के बाद जिन वाहनों में हाई सिक्‍यूरिटी नंबर प्‍लेट नहीं होगी, उन्‍हें 5000 रुपये का चालान भरना पड़ेगा।एचएसआरपी एक होलोग्राम स्‍टीकर है, जिसमें वाहन के इंजन और चैसिस नंबर दर्ज होते हैं और इसे वाहन की नंबर प्‍लेट पर चिपकाया जाता है। हाई सिक्‍यूरिटी नंबर प्‍लेट को वाहन की सुरक्षा और सुविधा के लिए डिजाइन किया गया है। यह नंबर प्‍लेट एल्‍युमिनियम से बनी है और इसे विशेष प्रकार से वाहन में फ‍िट किया जाता है। एक बार नंबर प्‍लेट लग जाने के बाद इसे किसी के द्वारा आसानी से निकालना संभव नहीं होगा।

पिछला:बोपन्ना और वेसलिन की जोड़ी ऑस्ट्रेलिया ओपन के पहले दौर में हुए बाहर
अगला:IND vs ENG 2nd Test: रोहित-राहुल की जोड़ी ने लॉर्ड्स में मचाया धमाल, रिकॉर्ड्स का लगाया अंबार
संबंधित आलेख