मुखपृष्ठ > नुजियांग लिसु स्वायत्त प्रान्त
Maharashtra News: आज ED के सामने पेश नहीं होंगे संजय राउत, कहा-समय मांगूंगा
रिलीज़ की तारीख:2022-10-07 03:41:54
विचारों:392

आजEDकेसामनेपेशनहींहोंगेसंजयराउतकहासमयमांगूंगाUP: योगी सरकार का बड़ा फैसला, 26 सीनियर IPS ऑफिसर का हुआ ट्रांसफर, देखें पूरी लिस्ट******उत्तर प्रदेश में ने आईपीएस अधिकारियों को लेकर बड़ा बदलाव किया है। पुलिस व्यवस्था राज्य की पुलिस व्यवस्था में व्यापक परिवर्तन करते हुए आज 26 वरिष्ठ आईपीएस अधिकारियों का तबादला कर दिया। गृह विभाग की ओर से जारी सूची के मुताबिक वाराणसी जोन के अपर पुलिस महानिदेशक विश्वजीत महापात्र को पुलिस महानिदेशक (भ्रष्टाचार निवारण संगठन) लखनऊ के पद पर भेजा गया है। तैनाती की प्रतीक्षा कर रहे पी.वी. रामा शास्त्री को वाराणसी जोन का अपर पुलिस महानिदेशक बनाया गया है।सीबीसीआईडी लखनऊ में तैनात अपर पुलिस महानिदेशक दावा शेरपा को गोरखपुर जोन का अपर पुलिस महानिदेशक नियुक्त किया गया है।लखनऊ जोन के अपर पुलिस महानिदेशक अभय कुमार प्रसाद को आर्थिक अपराध अनुसंधान संगठन लखनऊ में अपर पुलिस महानिदेशक के पद पर नई तैनाती दी गई है। तैनाती की प्रतीक्षा कर रहे अधिकारी पीयूष आनंद को अपर पुलिस महानिदेशक (स्थापना) के पद पर भेजा गया है।मुरादाबाद स्थित डॉ भीमराव आंबेडकर पुलिस अकादमी में तैनात अपर पुलिस महानिदेशक राजीव कृष्ण को लखनऊ जोन का अपर पुलिस महानिदेशक नियुक्त किया गया है।इलाहाबाद में तैनात पुलिस महानिरीक्षक (बजट) के.एस.पी. कुमार को मुरादाबाद स्थित पुलिस अकादमी में अपर पुलिस महानिदेशक के पद पर तैनाती दी गई है। अपर पुलिस महानिदेशक (स्थापना) एस. बी. शिरडकर को अपर पुलिस महानिदेशक (अभिसूचना) के पद पर भेजा गया है। मिर्जापुर के अपर पुलिस महानिदेशक को इसी पद पर बरेली जोन में तैनाती दी गई है।पुलिस महानिरीक्षक (कानून व्यवस्था) हरीराम शर्मा को अपर पुलिस महानिदेशक (प्रशासन) के पद पर भेजा गया है। पुलिस महानिरीक्षक (अपराध) सुनील गुप्ता को अपर पुलिस महानिदेशक सीबीसीआईडी के पद पर भेजा गया है। लखनऊ परिक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक जय नारायण सिंह को पुलिस महानिरीक्षक (पीएसी मुख्यालय, लखनऊ) के पद पर तैनाती दी गई है।पुलिस महानिरीक्षक (दूरसंचार) सुजीत पांडे को लखनऊ परिक्षेत्र का पुलिस महानिरीक्षक बनाया गया है। पुलिस महानिरीक्षक रेलवे विनोद कुमार सिंह को मुरादाबाद परिक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक पद पर भेजा गया है। तैनाती की प्रतीक्षा कर रहे धु्रव कांत ठाकुर को बरेली परिक्षेत्र का पुलिस महानिदेशक नियुक्त किया गया है। पुलिस महानिरीक्षक (लोक शिकायत) विजय सिंह मीणा को मिर्जापुर जोन का महानिरीक्षक बनाया गया है।फैजाबाद: विजय प्रकाश पुलिस महानिरीक्षक के पद पर नई तैनाती। फैजाबाद परिक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक विजय प्रकाश को पुलिस महानिदेशक कार्यालय में पुलिस महानिरीक्षक के पद पर नई तैनाती दी गई है।गोरखपुर जोन के पुलिस महानिरीक्षक मोहित अग्रवाल को पुलिस महानिरीक्षक (लोक शिकायत) बनाया गया है।बरेली परिक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक एस. के. भगत को पुलिस महानिरीक्षक (अपराध) लखनऊ के पद पर नई तैनाती दी गई है।गोरखपुर परिक्षेत्र के पुलिस उपमहानिरीक्षक नीलाब्जा चौधरी को गोरखपुर परिक्षेत्र का नया पुलिस महानिदेशक नियुक्त किया गया है।मुरादाबाद परिक्षेत्र के पुलिस उपमहानिरीक्षक ओंकार सिंह को इसी पद पर फैजाबाद भेजा गया है। चित्रकूट धाम परिक्षेत्र के पुलिस उपमहानिरीक्षक ज्ञानेश्वर तिवारी को पुलिस प्रशिक्षण केंद्र सीतापुर में पुलिस उपमहानिरीक्षक नियुक्त किया गया है।पुलिस उपमहानिरीक्षक (पीएसी सेक्टर लखनऊ) प्रवीण कुमार को पुलिस उपमहानिरीक्षक (कानून व्यवस्था) के पद पर तैनाती दी गई है। उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड में पुलिस उपमहानिरीक्षक शरद सचान को सहारनपुर परिक्षेत्र का पुलिस उपमहानिरीक्षक नियुक्त किया गया है। पुलिस उपमहानिरीक्षक कार्मिक मनोज तिवारी को चित्रकूट धाम परिक्षेत्र का पुलिस उपमहानिरीक्षक बनाया गया है। सहारनपुर परिक्षेत्र के पुलिस उपमहानिरीक्षक के एस इमैनुअल को केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर जाने की अनुमति दी गयी है।

आजEDकेसामनेपेशनहींहोंगेसंजयराउतकहासमयमांगूंगाNupur Sharma Controversy: "इस्लाम के अनुसार नूपुर शर्मा को माफ कर देना चाहिए," जमात उलमा-ए-हिंद का बयान******Highlights जमात उलमा-ए-हिंद के अध्यक्ष सुहैब कासमी ने रविवार को कहा कि बीजेपी की पूर्व नेता नूपुर शर्मा ने कथित तौर पर पैगंबर मुहम्मद पर विवादस्पद टिप्पणी की थी। उन्होंने कहा कि नूपुर शर्मा को इस्लाम के अनुसार माफ कर दिया जाना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि मुस्लिम स्कॉलर्स का संगठन उनकी कथित टिप्पणी के तहत देश में हो रहे विरोध से असहमत था।जमात उलमा-ए-हिंद ने शुक्रवार की नमाज के बाद नूपुर शर्मा की कथित टिप्पणी और देशव्यापी विरोध को लेकर आज दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई। इसमें अध्यक्ष कासमी ने कहा,"इस्लाम कहता है कि नुपुर शर्मा को माफ कर दिया जाना चाहिए। हम नूपुर शर्मा और उनकी अपमानजनक टिप्पणियों के खिलाफ जुमे की नमाज के बाद देशभर में शुरू हुए विरोध प्रदर्शन से बिल्कुल सहमत नहीं हैं।" इसके अलावा जमात उलमा-ए-हिंद ने बीजेपी के शर्मा को निलंबित करने के फैसले का स्वागत किया। कासमी ने आगे कहा, "हम कानून के फैसले का स्वागत कर रहे हैं क्योंकि भारत देश का कानून है और हम कानून को अपने हाथ में नहीं लेने जा रहे हैं। कानून सड़क पर आने और नियम तोड़ने की इजाजत नहीं देता है।"जमात उलमा-ए-हिंद ने एक 'फतवा' जारी करने का फैसला किया है। यह फतवा नूपुर शर्मा की कथित टिप्पणी के विरोध में हो रहे प्रदर्शन या किसी भी हिंसा का समर्थन नहीं करने के लिए बताएगा। जमात ने कहा,"फतवा असदुद्दीन ओवैसी और मोहम्मद मदनी के खिलाफ आएगा।" जमात ने सरकार से कई मुस्लिम संगठनों और उनकी फंडिंग की जांच करने की अपील की है और कहा कि वह अन्य मुस्लिम संगठनों को हिंसा भड़काने की अनुमति नहीं देगी।बीजेपी की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मी की कथित पैगंबर मुहमम्द पर अपमानजनक टिप्पणी को लेकर कुछ खाड़ी देशों ने नाराजगी व्यक्त की है। इसी बीच गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पुलिस प्रमुखों को तैयार रहने और सतर्क रहने को कहा है। पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ विवादास्पद टिप्पणी को लेकर देश के विभिन्न हिस्सों से हिंसा की कई घटनाओं की रिपोर्ट के बाद शुक्रवार को (MHA) ने सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेश की पुलिस को एक बयान जारी किया। गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि उन्होंने सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेश की पुलिस को सतर्क रहने के लिए अलर्ट भेजा है क्योंकि हिंसा के दौरान उन्हें निशाना बनाया जा सकता है।आजEDकेसामनेपेशनहींहोंगेसंजयराउतकहासमयमांगूंगानई बुलंदियों की तरफ बढ़ते हुए त्रिपुरा ‘ट्रेड कॉरिडोर’ का केंद्र बन रहा है: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी******Highlightsप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को त्रिपुरा की स्थापना के 50 साल पूरा होने के अवसर पर राज्य की जनता को बधाई दी। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि पूर्वोत्तर का यह राज्य आज न सिर्फ नयी बुलंदियों की तरफ बढ़ रहा है रहा है बल्कि वह ‘ट्रेड कॉरिडोर’ का केंद्र भी बन रहा है। एक वीडियो संदेश में प्रधानमंत्री ने कहा त्रिपुरा का इतिहास हमेशा से गरिमा से भरा रहा है और माणिक्य वंश के सम्राटों के प्रताप से लेकर आज तक एक राज्य के रूप में उसने अपनी भूमिका को सशक्त किया है। कहा, ‘जनजातीय समाज हो या दूसरे समुदाय, सभी ने के विकास के लिए पूरी मेहनत के साथ, एकजुटता के साथ प्रयास किए हैं। मां त्रिपुरासुंदरी के आशीर्वाद से त्रिपुरा ने हर चुनौती का हिम्मत के साथ सामना किया है।’ प्रधानमंत्री ने कहा कि त्रिपुरा आज विकास की नयी बुलंदी की तरफ बढ़ रहा है और वह अवसरों की धरती बन रहा है। उन्होंने कहा, ‘आज त्रिपुरा के सामान्य जन की छोटी-छोटी जरूरतें पूरा करने के लिए डबल इंजन की सरकार निरंतर काम कर रही है। तभी तो विकास के अनेक पैमानों पर त्रिपुरा आज बेहतरीन प्रदर्शन कर रहा है। आज बड़े संपर्क अवसंरचना के माध्यम से यह राज्य ट्रेड कॉरिडोर का हब बन रहा है।’

Maharashtra News:  आज ED के सामने पेश नहीं होंगे संजय राउत, कहा-समय मांगूंगा

आजEDकेसामनेपेशनहींहोंगेसंजयराउतकहासमयमांगूंगाHeart Disease: युवाओं के दिल पर मंडरा रहा बीमारियों का खतरा, स्वामी रामदेव से जानिए बचने के उपाय******Highlights'जाना था जापान...पहुँच गए चीन...समझ गए ना...' बात रोमांच की हो तो चीन-जापान क्या, कहीं भी चले जाइए कोई फर्क नहीं पड़ता। लेकिन बात जब सेहत की हो, यानी गये हों जिम और वहां से सीधे हॉस्पिटल पहुंच जाएं तो फर्क भी पड़ता है और फिक्र भी होती है। लोगों को अपने खास अंदाज में हंसाने वाले 'गजोधर भैया' राजू श्रीवास्तव को ही ले लीजिए, जिम में हार्ट अटैक आने के बाद AIIMS में उनका इलाज चल रहा है। कन्नड़ सुपरस्टार पुनीत राजकुमार और एक्टर सिद्धार्थ शुक्ला की कहानी भी जिम से ही जुड़ी है। ऐसे में जहन में एक ही बात आती है, आखिर ऐसा क्या होता है कि ट्रेडमिल पर दौड़ते-दौड़ते लोग ICU पहुंच जाते हैं। चेस्ट पेन होता है, ट्रेडमिल से नीचे गिरते हैं और सांसों पर इमरजेंसी लग जाती है। अगर आप भी इन मामलों को देखकर डरे हुए हैं तो यहां योगगुरु स्वामी रामदेव से जानिए कि कैसे अपने दिल को योग, प्राणायाम और आयुर्वेद से स्वस्थ रखा जा सकता है।राजू श्रीवास्तव, पुनीत राजकुमार और एक्टर सिद्धार्थ शुक्लाजैसे तमाम मामलों में हेल्थ एक्सपर्ट की माने तो ये क्लॉट फॉर्मेशन होने से होता है। मतलब ये कि आर्टरी में इंजरी, छोटे ब्लॉक और स्ट्रेस की वजह से हार्ट की धमनी में अचानक खून का थक्का जम जाता है और ब्लड सप्लाई रुक जाती है। इस वजह से किसी भी शख्स को ना सिर्फ एक्सरसाइज करते हुए बल्कि गाड़ी चलाते, सोते हुए भी हार्ट अटैक आ सकता है। एक्सपर्ट की माने तो इस तरह के 90% मामले युवाओं के होते हैं।किसी की भी जिंदगी में ऐसी अलार्मिंग सिचुएशन ना बने। एंजियोप्लास्टी यानि सर्जिकल प्रोसेस के जरिए आर्टरी में बाल जितना बारीक तार यानी स्टंट डालकर ब्लॉकेज खोलने की नौबत ना आए। तो इसके लिए क्या करें? तो इसके लिए सबसे पहले हार्ट की स्ट्रेंथ को जानना जरूरी है। क्योंकि भले ही BP-कोलेस्ट्रॉल का लेवल ठीक हो। लेकिन खराब लाइफ स्टाइल, जेनेटिक प्रॉब्लम, वर्क-लाइफ प्रेशर का असर दिल पर पड़ता है। ऐसे में आप किसी भी गोल को जल्दी-जल्दी पूरा करने के चक्कर में ना पड़ें। रोज पैदल चलें, पैदल चलने की स्पीड इतनी रखें कि आप हांफे नहीं। साथ ही स्ट्रेस जितना कम लेंगे हार्ट उतना हेल्दी रहेगा और इस सबके साथ योग-प्राणायाम को अपने जीवन में शामिल कर लेंगे, रोज ध्यान करेंगे और दिल की सुनेंगे तो दिल आपका साथ सालोंसाल देगा।आजEDकेसामनेपेशनहींहोंगेसंजयराउतकहासमयमांगूंगाUttarakhand Bus Accident: उत्तरकाशी बस हादसे में 25 की मौत, शिवराज सिंह रात को ही हुए देहरादून रवाना******Highlights उत्तराखंड में रविवार शाम एक बड़ा बस हादसा हुआ है। उत्तरकाशी जिलें में यमुनोत्री नेशनल हाईवे पर 28 यात्रियों से भरी एक बस गहरी खाई में जा गिरी। इस हादसे में अब 25 यात्रियों की मौत की खबर है। वहीं, बाकी घायल यात्रियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस भीषण बस हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों के लिए प्रधानमंत्री के बाद शिवराज सिंह ने भी मुआवजे की घोषणा की है।उत्तराखंड बस हादसे में हताहत सभी सभी यात्री मध्य प्रदेश के पन्ना जिले के रहने वाले थे। लिहाजा इस मामले पर सीएम शिवराज सिंह विशेष रूप से सक्रीय हैं। सीएम शिवराज ने मृतकों के परिजनों को 5 लाख और घायलों के परिजन को 50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है। बता दें कि इससे पहले पीएम मोदी ने भी मृतकों के परिजनों को 2 लाख रुपये और घायलों को 50 हजार के मुआवजे का ऐलान किया था।मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान रात में उत्तराखंड के लिए रवाना हुए हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ स्थानीय मंत्री ब्रजेंद्र प्रताप सिंह और 4 वरिष्ठ अधिकारी भी उत्तराखंड जा रहे हैं। सीएम शिवराज रात को देहरादून में पूरे रेस्क्यू ऑपरेशन और घायलों की व्यवस्थाओं की मॉनिटरिंग करेंगे। इसके बाद मुख्यमंत्री सुबह होते ही उत्तरकाशी जिले के लिए हेलीकॉप्टर से रवाना होंगे।उत्तरकाशी जिले में बस दुर्घटना को लेकर सीएम पुष्कर सिंह धामी देहरादून के आपदा नियंत्रण कक्ष पहुंचे। सीएम धामी ने जिला प्रशासन को घायलों के इलाज के साथ-साथ राहत एवं बचाव कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए।बता दें कि उत्तराखंड सीएम ने भी बस हादसे में मृतकों के परिजनों के लिए प्रधानमंत्री और शिवराज के बाद मुआवजे की घोषणा की है। सीएम धामी ने अपने ट्वीट में लिखा, "उत्तरकाशी के पुरौला में डामटा के पास हुई हृदयविदारक सड़क दुर्घटना के दृष्टिगत मृतकों के परिजनों को 1 लाख रुपए एवं घायलों को 50 हजार रुपए की सहायता राशि दिए जाने की घोषणा करता हूं।"आजEDकेसामनेपेशनहींहोंगेसंजयराउतकहासमयमांगूंगाजेटली ने वित्त विधेयक 2017 लोकसभा में किया पेश, रिजर्व बैंक जारी करेगा चुनावी बॉन्ड****** केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने मंगलवार को वित्त विधेयक 2017 लोकसभा में पेश किया। उन्होंने कहा कि चूंकि इसमें चुनावी बॉन्ड के प्रावधान शामिल हैं, इसलिए इसे वित्त विधेयक माना जाना चाहिए और इस पर केवल लोकसभा में ही बहस हो सकती है। अगले वित्त वर्ष के लिए सरकार के वित्तीय प्रस्तावों को ही सामान्यत: वित्त विधेयक माना जाता है।सदन में विपक्षी दल के एक सदस्य के प्रश्न के उत्तर में जेटली ने कहा कि सरकार द्वारा उठाए गए नोटबंदी के कदम के बाद भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के लिए आयकर से संबंधित कई तरह के प्रोत्साहन लागू किए गए हैं, जिसमें चुनावी बॉन्ड भी एक है। इसे राजनीतिक जीवन में काले धन से निपटने के लिए लाया गया है। इसके लिए विभिन्न अधिनियमों में संशोधन की आवश्यकता है।जेटली ने सदन को बताया, “चुनावी बॉन्ड ऐसा ही एक प्रोत्साहन है, जिसे आयकर अधिनियम की धारा 13ए के तहत जारी किया गया है और वित्त विधेयक 2017 के खंड 11ए में इसका उल्लेख है।”उन्होंने कहा, “ये चुनावी बॉन्ड की प्रक्रिया को परिभाषित करते हैं कि उसे किस प्रकार जारी किया जाएगा। रिजर्व बैंक कुछ चुने हुए बैंकों के साथ मिलकर चुनावी बॉन्ड जारी करेगा।”उन्होंने आगे कहा, “इस मामले में आरबीआई अधिनियम में संशोधन की जरूरत पड़ेगी, ताकि किसी खास बैंक को इसे जारी करने के लिए अधिसूचित किया जा सके। इस प्रावधान के लिए आरबीआई के साथ-साथ लोक अधिनियम विधेयक को भी संशोधित किया गया है।” सोमवार को लोकसभा ने वित्त वर्ष 2016-17 के लिए अनुपूरक अनुदान मांगों के तीसरे बैच को ध्वनिमत से पारित कर दिया।

Maharashtra News:  आज ED के सामने पेश नहीं होंगे संजय राउत, कहा-समय मांगूंगा

आजEDकेसामनेपेशनहींहोंगेसंजयराउतकहासमयमांगूंगाफ्री... फ्री... फ्री... के लॉलीपॉप में फंसा लोकतंत्र! जानिए क्या है मुफ्तखोरी की योजनाओं का खेल?******कर्म ही पूजा मानने वाले देश में वोटों की राजनीति के चलते चुनावी वादों के रूप में मुफ्त में खाद्य सामग्री से लेकर दूसरी वस्तुएं बांटने का जो दौर चला है, ये साफ इशारा करता है कि इस देश का लोकतंत्र फ्री के लॉलीपॉप में अपना फंस गया है। लोकलुभावन मुफ्त की योजनाओं से लोकतंत्र भी कमजोर होता है और अर्थतंत्र भी गड़बड़ा जाता है। इसके बहुत से नुकसानों में से सबसे अहम यह होता है कि मुफ्तखोरी की आदत के चलते ही लोग आलसी होने लगे हैं। आज फसल काटने के समय मजदूर नहीं मिलता। दरअसल, इसकी व्यापक स्तर पर शुरुआत होती है मनरेगा से। यह योजना जिस उद्देश्य के लिए बनी थी, वो मकसद भले ही अच्छा था लेकिन इसकी परिणिति मुफ्तखोरी पर आकर टिक गई है। इसके बाद राजनीतिक पार्टियों ने सत्ता के लिए मुफ्त की योजनाओं को अपना सबसे बड़ा हथियार बना लिया। विभिन्न राज्यों में किसानों की कर्ज माफी से शुरू हुआ ये सिलसिला अब मुफ्त उपहारों में तब्दील हो चुका है।दक्षिण के राज्यों में यह प्रवृत्ति सबसे पहले पनपी। साड़ी, प्रेशर कुकर से लेकर टीवी, वॉशिंग मशीन तक मुफ्त बांटी जाने लगी। जयललिता के राज में अम्मा कैंटीन खूब फली—फूली। लेकिन परिणाम यह हुआ कि अर्थव्यवस्था रसातल में जाने लगी। कालांतर में वहां सरकारों ने इस पर आंशिक ही सही अंकुश लगाया लेकिन यह प्रवृत्ति उत्तर के राज्यों में आ गई। मनरेगा के कारण खेती या अन्य कार्य के लिए मजदूर नहीं मिलते हैं।सुविधा और प्रोत्साहन में अंतरसुविधा और प्रोत्साहन की योजनाएं अलग-अलग होती हैं। इसे ऐसे समझा जा सकता है कि केंद्र सरकार ने किसानों को 6 हजार रुपये प्रति वर्ष नकद देने की योजना लागू की है। वहीं दिल्ली सरकार ने मुफ्त बिजली और पानी देने का वादा किया। दोनों मुफ्त सुविधाएं हैं। अंतर है कि किसान को नकद राशि मिलने से उसका खेती के प्रति रुझान बढ़ता है और देश की खाद्य व्यवस्था सुदृढ़ होती है, जबकि बिजली मुफ्त बांटने से ऐसा लाभ नहीं मिलता।मुफ्त की योजनाओं का लॉलीपॉप देने में 'आप' सबसे आगेयूपी चुनाव 2022 में भले ही बीजेपी जीत गई हो। लेकिन आप ने उत्तर प्रदेश में फ्री बिजली का पासा फेंका था। उसने इस बात की अनदेखी की कि यूपी पॉवर कारपोरेशन की वितरण कंपनियां पहले से 90 हजार करोड़ रुपये के घाटे में हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में 80 फीसदी उपभोक्ता बिजली का बिल नहीं दे रहे हैं और वर्तमान सरकार राजनीतिक दबाव में वसूली भी नहीं कर पा रही है।दिल्ली में भी 'फ्री' का प्रलोभन देकर सत्ता में आई थी 'आप'2015 में दिल्ली में फ्री बिजली और पानी के नाम पर सरकार बनी, तब से इसमें प्रतिस्पर्धा बढ़ गई है। मुफ्त बस यात्रा योजना के बाद दिल्ली में डीटीसी को 1750 करोड़ का नुकसान हुआ। यही नहीं दिल्ली का राजकोषीय घाटा 2 साल में 55 गुना से ज्यादा बढ़ गया।कहीं वेनेजुएला न बन जाएं हमयही हाल रहा तो हमारी हालत भी वेनेजुएला जैसी हो जाएगी। गौरतलब है कि वेनेजुएला हाल के वर्षों में घोर वित्तीय संकट से घिरा हुआ है। रोजमर्रा की जरूरत के लिए वहां मार-काट हो रही है। वहां के वर्तमान हालात के लिए मुफ्तखोरी ही जिम्मेदार है। एक समय था वेनेजुएला सबसे अमीर देशों की श्रेणी में था। पेट्रो उत्पादों के बदौलत देश में आ रही सम्पत्ति को सही इसे इस्तेमाल करने के बजाए वहां के शासकों ने जनता को मुफ्तखोरी की आदत डाल दी। अच्छे समय में वहां की सरकार ने जनता को सब कुछ फ्री दिया। जब दुनिया के सामने वित्तीय संकट आया तब वेनेजुएला के पास विदेशों से व्यापार के लिए पर्याप्त धन नहीं बचा। आज वह देश कंगाल हो चुका है। भारी कर्ज में डूबा हुआ है।पंजाब में असर कर गया केजरीवाल का फ्री मॉडलराजनीतिक समीक्षकों का मानना है कि पंजाब में केजरीवाल के फ्री के मॉडल पर मुहर लगी। पंजाब में आम आदमी पार्टी ने 300 यूनिट मुफ्त बिजली का वादा किया है। फ्री शिक्षा समेत कई तरह के वादे किए हुए हैं, इनमें खासतौर पर अनुसूचित जाति के बच्चों का ध्यान रखा जाएगा। हर महिला को प्रतिमाह एक हजार रुपये देने की घोषणा की गई। दवाइयां और सभी टेस्ट समेत इलाज मुफ्त करने के वादे के साथ ही हर व्यक्ति को हेल्थ कार्ड देने का वादा किया गया। जिसमें उसकी हर जानकरी दर्ज होगी। 16000 मोहल्ला क्लीनिक खोले जाएंगे। हर गांव में मोहल्ला क्लीनिक होगा। सरकारी अस्पतालों को ठीक किया जायगा। बड़े स्तर पर नए अस्पताल खोले जाएंगे और किसी का रोड एक्सीडेंट होने पर पूरा इलाज सरकार करवाएगी।राज्य सरकारों की फ्री राशन योजना ने भी किया प्रभावितकेंद्र सरकार ने कोरोना में फ्री राशत वितरण का ऐलान किया था। इस योजना को मार्च 2022 तक पूरे देश में चलाया जा रहा है। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस योजना को आगे बढ़ाने का फैसला किया। प्रदेश के लोगों को फ्री राशन योजना का लाभ देने के लिए सरकार 1200.42 करोड़ रुपये का खर्चा हर महीने वहन करेगी। इससे मार्च तक योगी सरकार पर करीब 4801.68 करोड़ रुपये का बोझ आ जाएगा। यही नहीं यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने विद्यार्थियों को फ्री स्मार्टफोन और टैबलेट वितरित किए थे। इससे पहले सपा सरकार ने भी यही किया था। केवल यूपी ही नहीं, एमपी, बिहार, राजस्थान हर राज्यों में मुफ्त की योजनाएं धड़ल्ले से चल रही हैं। यूपी के सीएम योगी ने फ्री राशन योजना की शुरुआत की। वहीं प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना की शुरुआत की। जिसमें सरकार ने देश के 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया।स्विटजरलैंड जैसे देशों से लेना चाहिए सीखजून 2016 में स्विटजरलैंड सरकार ने अपने देश में बेसिक इनकम गारंटी मुद्दे पर जनमत संग्रह करावाया था। इसमें हर वयस्क नागरिक को बिना काम भी करीब डेढ़ लाख रुपये प्रतिमाह देने की पेशकश की गई। परंतु 77 फीसद नागरिकों ने मुफ्तखोरी को ठुकरा दिया। उन्होंने बेरोजगारी भत्ता नहीं रोजगार को चुना। भारत की जनता को भी ये समझना होगा कि खुशहाली मुफ्तखोरी में नहीं आत्मनिर्भर बनने में है।आजEDकेसामनेपेशनहींहोंगेसंजयराउतकहासमयमांगूंगाAgneepath Scheme: तीन साल में लौटे युवा तो नहीं होगी शादी, अग्निपथ पर पुनर्विचार करे सरकार: सत्यपाल मलिक******Highlights मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने सेना भर्ती की नई अग्निपथयोजना का विरोध करते हुए रविवार को कहा कि सरकार को इसपर पुनर्विचार करना चाहिए। मलिक ने कहा कि छह माह जवान ट्रेनिंगलेगा, छह माह की छुट्टी और तीन साल की नौकरी करने के बाद जब वह घर लौट आएगा तो उसकी शादी भी नहीं होगी। मलिक रविवार को यहां खेकड़ा में शिक्षक नेता गजे सिंह धामा की मौत के बाद उनके घर पर शोक संवेदना प्रकट करने पहुंचे थे। यहां उन्होंने सरकार कीअग्निपथयोजना को बारे में अपना विरोध व्यक्त किया।राज्यपाल मलिक ने कहा कि अग्निपथ योजना जवानों के खिलाफ है, यह उनकी उम्मीदों के साथ धोखा है। उन्होंने कहा कि इससे पहले उन्होंने किसानों की बात रखी थी और अब जवानों की बात रख रहे हैं। आप पद से इस्तीफा देकर किसानों और युवाओं के बीच में आकर बैठते और मुखर होते तो ज्यादा असर पड़ता? इस सवाल के जवाब में सत्यपाल मलिक ने कहा, ''मैं आप जैसे सलाहकारों के चक्कर में पड़ता तो यहां तक पहुंचता ही नहीं। ‌‌फिर उन्होंने आगे कहा कि कुर्सी छोड़ दूंगा एक मिनट में अगर जिसने मुझे बनाया है वह कह दे।’’मलिक से सेवानिवृत्ति के बाद की योजना के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा कि ''मेरा इरादा राजनीति करने और चुनाव लड़ने का नहीं है। किसानों और जवानों के लिए जहां जरूरत होगी, संघर्ष करुंगा।'' मलिक ने कहा कि वह कश्‍मीर पर किताब भी लिखेंगे। यह पूछे जाने पर कि क्या सेवानिवृत्त होने के बाद केन्द्र सरकार के खिलाफ खुलकर आंदोलन की अगुवाई करेंगे? मलिक ने कहा, ''बात सरकार के विरोध की नहीं है, मैं जो मुद्दा उठा रहा हूं, वह अगर मान लिया जाये तो वह सरकार के पक्ष की ही बात होगी।''

Maharashtra News:  आज ED के सामने पेश नहीं होंगे संजय राउत, कहा-समय मांगूंगा

आजEDकेसामनेपेशनहींहोंगेसंजयराउतकहासमयमांगूंगाHero Motocorp ने बनाया विश्व कीर्तिमान, 1 महीने में बेच डाली 7.5 लाख से ज्यादा बाइक्स******Hero Motocorp creats world record by selling more than 7500000 two wheeler's in single month दुनिया में सबसे ज्यादा बाइक्स बेचने वाली कंपनी बन चुकी ने सितंबर में मासिक बिक्री का नया विश्व कीर्तिमान बनाया है। सोमवार को Hero Motocorp की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक कंपनी ने सितंबर के दौरान 7,69,138 हैं और यह एक महीने में 7.5 लाख से ज्यादा बाइक्स बिक्री का आंकड़ा पार करने वाली यह विश्व की पहली टू-व्हीलर कंपनी है। Hero Motocorp के मुताबिक कंपनी ने अपने इतिहास में ऐसा 5वीं बार किया है कि उसकी मासिक बिक्री का आंकड़ा 7 लाख के पार गया है, इन 5 बार में यह आंकड़ा 3 बार पिछले 6 महीने में ही पार हुआ है।Hero Motocorp के मुताबिक चालू वित्त वर्ष 2018-19 की पहली छमाही यानि अप्रैल से सितंबर 2018 के दौरान कंपनी 42 लाख से ज्यादा गाड़ियों की बिक्री कर चुकी है और आगे देश में त्यौहारी सीजन शुरू होने वाला है, ऐसे में कंपनी को उम्मीद है कि वह आने वाले दिनों में बिक्री का नया रिकॉर्ड बनाएगी।

आजEDकेसामनेपेशनहींहोंगेसंजयराउतकहासमयमांगूंगाNavjot Singh Sidhu Sentenced: रोडरेज केस में नवजोत सिंह सिद्धू को 1 साल जेल की सजा, 1988 में क्या हुआ? जानिए पूरा मामला******Highlightsकांग्रेस नेता को सुप्रीम कोर्ट ने 1 साल की सजा सुनाई है। 1988 के रोड रेज केस में सिद्धू को ये सजा सुनाई गई है। जस्टिस ए एम खानविलकर और जस्टिस एस के कौल की पीठ ने सिद्धू को दी गई सजा के मुद्दे पर पीड़ित परिवार द्वारा दायर पुनर्विचार याचिका को स्वीकार कर लिया। हालांकि शीर्ष अदालत ने मई 2018 में सिद्धू को मामले में 65 वर्षीय व्यक्ति को "जानबूझकर चोट पहुंचाने" के अपराध का दोषी ठहराया था, लेकिन 1,000 रुपये का जुर्माना लगाकर छोड़ दिया था। इसके बाद पीड़ित पक्ष ने इस पर पुनर्विचार याचिका दायर की थी।बता दें कि सिद्धू की सजा बढ़ाने की याचिका पर ने यह फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सिद्धू को तुरंत कस्टडी में लिया जाएगा। सिद्धू के सामने अब क्यूरेटिव पिटीशन दायर करने का ऑप्शन है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद सिद्धू ने ट्वीट किया है। अपने ट्वीट में सिद्ध ने लिखा है, ''मैं कानून का सम्मान करता हूं।''मामला दिसंबर 1988 में पटियाला निवासी गुरनाम सिंह की मौत से जुड़ा है, जब नवजोत सिंह सिद्धू और एक दोस्त ने रोड रेज की घटना में उस पर हमला किया था। 27 दिसंबर, 1988 को सिद्धू और रूपिंदर सिंह संधू ने कथित तौर पर पटियाला में शेरनवाला गेट क्रॉसिंग के पास सड़क के बीच में अपनी जिप्सी खड़ी की थी। जब 65 वर्षीय गुरनाम सिंह एक कार में मौके पर पहुंचे, तो उन्होंने उन्हें एक तरफ हटने के लिए कहा। इसके बाद सिद्धू ने सिंह की पिटाई कर दी। उन्होंने कथित तौर पर भागने से पहले सिंह की कार की चाबियां भी फेंक दीं ताकि उन्हें मेडिकल हेल्प ना मिल सके।सितंबर 1999 में, सिद्धू को हत्या से बरी कर दिया गया था, लेकिन दिसंबर 2006 में, पंजाब और हरियाणा HC ने उन दोनों को गैर इरादतन हत्या का दोषी ठहराया। साथ ही दोनों पर एक-एक लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया। सिद्धू और संधू ने बाद में सुप्रीम कोर्ट में फैसले को चुनौती दी थी।आजEDकेसामनेपेशनहींहोंगेसंजयराउतकहासमयमांगूंगाBandon Mein Tha Dum : रोहित शर्मा ने कहा, मैं शार्दुल ठाकुर को सबक सिखाऊंगा, जानिए पूरा माजरा******Highlightsशार्दुल ठाकुर हैं तो वैसे तेज गेंदबाज, लेकिन अक्सर वे अपनी बल्लेबाजी से भी महफिल लूट लेते हैं। चाहे आईपीएल हो या फिर इंटरनेशनल क्रिकेट, कई बार शार्दुल ठाकुर ने अपनी बल्लेबाजी से टीम को मैच जिताने का भी काम किया है। लेकिन उस दिन शार्दुल ठाकुर बल्लेबाजी में फेल हो गए और उसके बाद रोहित शर्मा ने यहां तक कह दिया था कि अब वे शार्दुल ठाकुर को सबक सिखाएंगे, लेकिन अजिंक्य रहाणे ने उन्हें बीच में ही रोक दिया। दरअसल हम बात कर रहे उस सीरीज की जब भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया के साथ एक मुश्किल सीरीज खेली थी और गाबा में ऑस्ट्रेलिया को चारो खाने चित्त कर दिया था। उसी सीरीज के चार मैचों की एक डॉक्यूमेंट्री अब बन गई है, जिसका नाम वंदों में था दम, के नाम से आई है, जो ओटीटी प्लेटफार्म वूट पर रिलीज कर दी गई है।दरअसल चार टेस्ट मैचों की सीरीज का आखिरी मैच गाबा में खेला जा रहा था, माना जाता है कि गाबा में ऑस्ट्रेलिया की टीम अजेय है। यहां उसे हराना असंभव तो नहीं, लेकिन बहुत ज्यादा मुश्किल जरूर है। यही पर सीरीज का आखिरी टेस्ट था। टीम इंडिया को आखिरी पारी में जीत के लिए 329 रन बनाने थे। पहले तो टीम इंडिया ने मैच ड्रॉ कराने के बारे में सोचा, लेकिन जब लगा कि अब मैच हारेंगे नहीं, उसके बाद भारतीय टीम ने हमला किया और जीत के लिए खेलने लगे। अभी भारत का स्कोर 318 रन था और भारत जीत के काफी करीब था, तभी वॉशिंगटन सुंदर आउट हो गए। इससे टीम इंडिया को झटका लगा। एक छोर पर ​ऋषभ पंत खड़े हुए थे और वे जीत के लिए जा रहे थे। सुंदर के आउट होने के बाद शार्दुल ठाकुर की बल्लेबाजी आई। वंदों में था दम डॉक्यूमेंट्री में अजिंक्य रहाणे ने बताया कि शार्दुल ठाकुर की बल्लेबाजी से रोहित शर्मा भड़क गए थे। क्योंकि शार्दुल ठाकुर नाजुक मौके पर केवल दो रन बनाकर आउट हो गए थे। जब शार्दुल ठाकुर बल्लेबाजी के लिए जा रहे थे, तब रोहित शर्मा ने उनसे कहा था कि यह तुम्हारे लिए हीरो बनने का मौका है। शार्दुल ठाकुर केवल सिर हिलाकर चले गए थे। इसके बाद डॉक्यूमेंट्री में ही रविचंद्रन अश्विन ने बताया कि जब शार्दुल मैदान में जा रहे थे, जब रोहित शर्मा ने उनसे कहा था कि इसे खत्म करो। इसके बाद शार्दुल ठाकुर आउट हो गए। इस दौरान हर कोई कह रहा ​था, ये तुम तुम क्या कर रहे हो। इसके बाद अजिंक्य रहाणे ने कहा कि रोहित शर्मा मेरे बगल में बैठे थे। उन्होंने कहा कि मैच खत्म होने दो, हम जीतें, मैं शार्दुल को सबक सिखाऊंगा। इस पर अजिंक्य रहाणे ने कहा कि भूल जाओ, मैच खत्म होने के बाद हम देखेंगे।हालांकि शार्दुल ठाकुर के आउट होने के बाद भी भारत ने इस मैच को तीन विकेट से जीता था। शार्दुल ठाकुर के आउट होने के बाद नवदीप सैनी बल्लेबाजी के लिए गए। डॉक्यूमेंट्री में ही ऋषभ पंत ने कहा कि उन्हें डर था कि कहीं दूसरे छोर पर सभी विकेट गिर न जाएं और वे खड़े ही रह जाए। इसके बाद ऋषभ पंत ने तय कि वे नवदीप सैनी को क्रीज पर आने ही नहीं देंगे और मैच इसी ओवर में खत्म करेंगे। हुआ भी ऐसा ही नवदीप सैनी बिना गेंद खेले ही नाबाद लौटे। वहीं दूसरे छोर पर ऋषभ पंत ने 138 गेंद पर 89 रनों की नाबाद पारी खेली थी। उन्होंने नौ चौके और एक छक्का मारा था। इस जीत के साथ ही टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया का गाबा में उसका घमंड तोड़ने का काम किया था, जहां ऑस्ट्रेलियाई टीम पिछले 32 साल से नहीं हारी थी, वहीं भारत ने उसे धूल चटाई। साथ ही सीरीज भी 2-1 से अपने नाम की थी।

आजEDकेसामनेपेशनहींहोंगेसंजयराउतकहासमयमांगूंगाहो गया खुलासा रवि शास्त्री और सुनील गावस्कर की वजह से पाकिस्तान ने जीती चैंपियंस ट्रॉफी !****** 18 जून 2017 को पाकिस्तान नेके फाइनल मुकाबले में डिफेंडिंग चैंपियन भारत को हराकर खिताब अपने नाम किया। लेकिन अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर 4 महीने बाद हम इसकी चर्चा क्यों कर रहे हैं, तो चलिए आपके लिए हम इसका खुलासा कर ही देते हैं। कहा जा रहा है कि पाकिस्तानी टीम की जीत के पीछे सुनील गावस्कर और रवि शास्त्री का हाथ था। जी हां पाकिस्तानी टीम के मैनेजर तलत अली मलिक ने बड़ा खुलासा करते हुए बताया कि उन्होंने फाइनल मैच से पहले गावस्कर और रवि शास्त्री का बयान पाकिस्तानी टीम को सुनाया। जिसमें दोनों दिग्गज ये दावा कर रहे थे कि पाकिस्तान की टीम फाइनल जीतने लायक नहीं है।तलत अली ने बताया कि ‘टीम इंडिया से हमारा फाइनल मैच था। मैंने रवि शास्त्री और सुनील गावस्कर का बयान सुना, जिसमें दोनों ने पाक को जीत का दावेदार नहीं माना। मैंने ये वीडियो अपनी टीम को दिखाया, जिससे बाद टीम में जोश आ गया। खिलाड़ियों ने फैसला किया कि वो जुबान से नहीं बल्कि अपने प्रदर्शन से टीम इंडिया और इन दिग्गजों को जवाब देंगे।’फाइनल मैच में पाकिस्तानी टीम ने ऐसा ही किया। फाइनल में पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तानी टीम ने 4 विकेट पर 338 रनों का विशाल स्कोर बनाया। फखर जमां ने 114 और अजहर अली ने 59 रन बनाए। बाबर आजम ने भी 46 रन की पारी खेली। जवाब में भारतीय टीम सिर्फ 158 रन पर ऑल आउट हो गई और 180 रन के बड़े अंतर से मैच हार गई।आजEDकेसामनेपेशनहींहोंगेसंजयराउतकहासमयमांगूंगा'बालिका वधू 2' की टीम ने शो के कॉन्सेप्ट के बारे में खुलकर बात की******बाल विवाह के विषय को संबोधित करने वाला और सबसे लोकप्रिय धारावाहिकों में से एक बन गया 'बालिका वधू ' अपने दूसरे सीजन 'बालिका वधू 2' के साथ वापस आ रहा है। यह श्रेया पटेल द्वारा निभाई गई नई 'आनंदी' की यात्रा को कैप्चर करेगा और उसी मुद्दे को एक नए दृष्टिकोण से संबोधित करेगा। कहानी आनंदी और न्याय के लिए उसकी लड़ाई के इर्द-गिर्द घूमती है। गुजरात के देवगढ़ शहर के ग्रामीण इलाकों में स्थापित, 'बालिका वधू 2' दो दोस्तों की कहानी है, सनी पंचोली द्वारा निभाई गई 'प्रेमजी' और अंशुल त्रिवेदी द्वारा चित्रित 'खिमजी'। खिमजी की पत्नी ने एक लड़की 'आनंदी' को जन्म दिया, जबकि 'प्रेमजी' से एक छोटा लड़का 'जिगर' (वंश सयानी द्वारा अभिनीत) पैदा हुआ। बाद में आनंदी और जिगर की एक दूसरे से 'बाल विवाह' हो जाता है।यह शो 9 अगस्त से कलर्स पर शुरू होगा। यह बिल्कुल नए नजरिए से बाल विवाह की प्रथा को संबोधित करेगा। यह शो दर्शकों को एक नई आनंदी और एक बाल वधू के रूप में उनके सामने आने वाली चुनौतियों से परिचित कराएगा। इसे संजय वाधवा और कोमल वाधवा ने प्रोड्यूस किया है।शो के बारे में बोलते हुए, निमार्ता संजय वाधवा कहते हैं, "हमने हमेशा कहानियों की शक्ति और उनके द्वारा लाए जा सकने वाले बदलाव में विश्वास किया है। पूरा देश इस बात का गवाह है कि कैसे बालिका वधू ने देश भर में लाखों लोगों की धारणा और भारतीय टेलीविजन के चेहरे को बदल दिया था। हम अभी भी इसकी अवधारणा की शक्ति में विश्वास करते हैं क्योंकि हमारे समाज का एक वर्ग आज भी बाल विवाह की प्रथा की पुष्टि करता है।"निर्माता कोमल वाधवा कहते हैं, "इस बार बालिका वधू के माध्यम से, हम दर्शकों को नई आनंदी की कहानी बताने के लिए गुजरात के कोने-कोने में ले जाएंगे। बहुत सारी लड़कियां अभी भी बाल विवाह में होने की इस लड़ाई को हर दिन लड़ रही हैं। और हमारी कहानी और किरदार उनके लिए प्रेरणा बनेंगे।"आनंदी की भूमिका निभा रही अभिनेत्री श्रेया पटेल ने साझा किया, "यह किरदार दर्शकों के लिए कितना खास है और वह अपनी ऑनस्क्रीन छवि से बहुत अच्छी तरह से जुड़ सकती हैं। मेरे परिवार ने हमेशा मुझे बताया कि आनंदी का किरदार कई भारतीयों के दिलों में खास जगह रखता है। मैं एक ऐसे किरदार को निभाने के लिए बेहद उत्साहित होने के साथ-साथ थोड़ी नर्वस भी हूं, जिसने सभी पर इतना प्रभाव छोड़ा। मेरा किरदार आनंदी कई मायनों में मेरे जैसी हैं, वह बहादुर हैं, खुश हैं और गरबा करना पसंद करती हैं। मैं नई यात्रा का बेसब्री से इंतजार कर रही हूं।"

आजEDकेसामनेपेशनहींहोंगेसंजयराउतकहासमयमांगूंगाRahul Gandhi in Gujarat: इस विधानसभा चुनाव में बनेगी कांग्रेस की सरकार, ‘नया गुजरात’ बनाना है: राहुल गांधी******Highlights कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने इस साल के आखिर में होने वाले गुजरात विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत की उम्मीद जताते हुए मंगलवार को कहा कि उनकी पार्टी की सरकार बनने के बाद ‘नया गुजरात’ बनाना है जहां आदिवासियों समेत सभी वर्गों का सम्मान होगा और लोगों को स्वास्थ्य, शिक्षा एवं रोजगार के अवसर मिलेंगे। उन्होंने यहां ‘आदिवासी सत्याग्रह रैली’ में यह आरोप भी लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दो हिंदुस्तान बना दिए हैं, एक अमीरों के लिए है और दूसरा आम जनता के लिए है।राहुल गांधी ने गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में आदिवासी समुदाय के लोगों से यह वादा किया कि गुजरात में कांग्रेस की सरकार बनने पर उनकी आवाज सुनी जाएगी और उनके अधिकारों की रक्षा सुनिश्चित की जाएगी। प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए उन्होंने दावा किया, ‘‘नरेंद्र मोदी जी ने के मुख्यमंत्री रहते हुए जो काम शुरू किया उसे वह आज पूरे हिंदुस्तान में कर रहे हैं। इसे गुजरात मॉडल कहा जाता था। वह दो हिंदुस्तान बना रहे हैं। एक अमीरों का हिंदुस्तान, जिसमें चुनिंदा लोग हैं, वह बड़े अरबपति, नौकरशाह हैं जिनके पास सत्ता, धन, अहंकार है। दूसरा हिंदुस्तान आम जनता का है। पहले गुजरात में इसका प्रयोग किया गया और अब पूरे हिंदुस्तान में लागू कर दिया गया है।’’ उन्होंने जोर देकर कहा, ‘‘कांग्रेस को दो हिंदुस्तान नहीं चाहिए। हमें एक हिंदुस्तान चाहिए जिसमें सबका आदर हो, सबको अवसर मिले, सबको शिक्षा मिले, सबको अस्पताल मिले और स्वास्थ्य देखरेख की सुविधा मिले।’’कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया, ‘‘भाजपा का मॉडल दो हिंदुस्तान और दो गुजरात का है। यह जल जंगल जमीन किसी उद्योगपति का नहीं है, बल्कि आदिवासियों एवं गरीबों का है। लेकिन भाजपा की सरकार में इसका फायदा आप लोगों को नहीं मिल रहा है।’’ राहुल गांधी का कहना था कि यूपीए सरकार के समय इस बात का पूरा प्रयास किया गया कि जल, जंगल, जमीन का पूरा फायदा हिंदुस्तान के आम लोगों, दलितों और आदिवासियों को मिले। उन्होंने कहा, ‘‘हम ऐसा कानून लाए थे ताकि आपको आपका अधिकार मिले। मनरेगा लाया गया। हमने कानून बदला कि बिना पूछे आपकी जमीन नहीं ली जाएगी।’’ उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने मनरेगा का मजाक उड़ाया, ‘‘लेकिन कोविड संकट के समय मनरेगा नहीं होता तो देश की हालत क्या होती, आप सोच सकते हैं।’’राहुल गांधी ने कोविड महामारी से नुकसान का उल्लेख करते हुए कहा, ‘‘ये लोग (भाजपा) नहीं बताते कि कोरोना महामारी के समय मां गंगा लाशों से भर गईं। ये नहीं बताते कि कोरोना वायरस के संक्रमण से 50-60 लाख लोगों की मौत हो गई। सिर्फ यह कहा गया कि थाली बजाओ, लाइट जलाओ।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमारी कोशिश होगी कि आदिवासियों की आवाज को इतना मजबूत बनाएं कि देश के प्रधानमंत्री को यह आवाज सुनाई दे जाए। गुजरात में आंदोलन करने के लिए अनुमति लेनी पड़ती है। आंदोलन करने के लिए जिग्नेश मेवानी (विधायक) को तीन महीने की जेल की सुना दी गई। मुझे पता है कि जिग्नेश को 10 साल की सजा दे दो, तो भी वह डरने वाला नहीं है।’’उन्होंने कहा, ‘‘गुजरात के युवाओं से कहना चाहता हूं कि नया गुजरात बनाना पड़ेगा। आपके भविष्य की बात है। आप स्वास्थ्य, शिक्षा और रोजगार चाहते हैं, लेकिन भाजपा के लोग यह नहीं देने वाले हैं।’’ राहुल गांधी ने कहा, ‘‘अब जनता और खासकर युवाओं को खड़ा होना होगा। पूरा भरोसा है कि आने वाले चुनाव में कांग्रेस की सरकार बनेगी। उस सरकार में आदवासियों की आवाज होगी और जो आदिवासी चाहेगा, वह गुजरात की सरकार करेगी।’’(इनपुट- भाषा)आजEDकेसामनेपेशनहींहोंगेसंजयराउतकहासमयमांगूंगामारुति ने केनिची आयुकावा को फिर से नियुक्‍त किया प्रबंध निदेशक और सीईओ, तीन वर्ष और बने रहेंगे पद पर******maruti suzuki देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी (एमएसआई) ने केनिची आयुकावा को बुधवार को एक अप्रैल 2019 से तीन साल की अवधि के लिए फिर से प्रबंध निदेशक और सीईओ नियुक्त करने की घोषणा की है। एमएसआई ने एक नियामकीय सूचना में बताया कि बुधवार को हुई कंपनी के निदेशक मंडल की बैठक में पारिश्रमिक सहित मौजूदा नियम और शर्तों पर आयुकावा को फिर से नियुक्त किया गया है।यह मारुति सुजुकी के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्याधिकारी के रूप में आयुकावा का तीसरा तीन साल का कार्यकाल होगा। उन्होंने मार्च 2013 में पहली बार ये पदभार संभाला था।शेयर बाजार को अलग से दी गई सूचना में कंपनी ने कहा कि उसके निदेशक मंडल ने टोयोटा किर्लोस्कर मोटर (टीकेएम) द्वारा वर्ष 2022 से शुरू होने वाली अपनी कॉम्पैक्ट एसयूवी विटारा ब्रेजा के उत्पादन को मंजूरी भी प्रदान कर दी है।कंपनी ने कहा कि टीकेएम के मौजूदा संयंत्र में वर्ष 2022 से विटारा ब्रेज़ा के उत्पादन की अनुमति देने का निर्णय कंपनी की एक नई विनिर्माण सुविधा में निवेश करने की स्थिति से बचाएगा।मारुति सुजुकी ने कहा कि इस मॉडल (विटारा ब्रेज़ा) के तमाम संस्करणों को कंपनी के और टीकेएम के बिक्री नेटवर्क के माध्यम से बेचा जाएगा।

पिछला:रनीम के संन्यास से वर्ल्ड के टॉप 10 स्क्वैश खिलाड़ियों में शामिल हुई जोशना चिनप्पा
अगला:विराट के गोल्डन डक पर आउट होते ही क्रिकेट इतिहास में दर्ज हुई 1 सितंबर 2019 की तारीख
संबंधित आलेख