मुखपृष्ठ > ताओयुआन काउंटी
अप्रैल-जून के दौरान भारत में सोने की मांग 19 प्रतिशत बढ़ी, तीन महीने में बिका 76 टन सोना
रिलीज़ की तारीख:2022-10-07 04:53:29
विचारों:627

अप्रैलजूनकेदौरानभारतमेंसोनेकीमांग19प्रतिशतबढ़ीतीनमहीनेमेंबिका76टनसोनाइस दिन आ रहे हैं करण जौहर के स्टूडेंट, जारी हुआ नया पोस्टर****** फिल्मकार के बैनर धर्मा प्रोडक्शंस तले बन रही आगामी फिल्म को लेकर पिछले काफी वक्त से सुर्खियां बनी हुई हैं। फिल्म में अभिनेता को मुख्य किरदार निभाते हुए देखा जाने वाला है। बता दें कि 2012 में रिलीज हुई फिल्म 'स्टूडेंट ऑफ द ईयर' का सीक्वल है। पिछली फिल्म ने दर्शकों के बीच खूब धमाल मचाया था, इसके बाद अब इसके सीक्वल को लेकर भी फैंस में काफी उत्सुकता देखने को मिल रही है। अब इसकी रिलीज डेट भी सामने आ चुकी है। बता दें कि फिल्म 23 नवंबर को सिनेमाघरों में रिलीज होने वाली है।हालांकि फिल्म में मुख्य किरदार में नजर आने वाली अदाकारओं को लेकर शुरुआत से कोई नाम तय नहीं हो पा रहा था। लेकिन करण जौहर का कहना है कि वह इसकी घोषणा फरवरी में करेंगे। बता दें कि फिल्म में दो नायिकाएं लीड रोल निभाती हुई दिखाई देने वाली हैं। करण ने ट्वीट किया, "'स्टूडेंट ऑफ द ईयर 2' विश्वभर में 23 नवंबर, 2018 को रिलीज होगी। दो मुख्य नायिकाओं की घोषणा अगले महीने होगी। फिल्म का निर्देशन पुनित मल्होत्रा करेंगे। फॉक्स स्टार हिंदी, अपूर्व मेहता, टाइगर श्रॉफ।"बता दे कि रिलीज डेट के साथ ही फिल्म का नया पोस्टर भी जारी कर दिया गया है। जिसमें टाइगर काफी रफ एण्ड टफ अंदाज में दिख रहे हैं। पिछली फिल्म को जहां करण जौहर ने डायरेक्ट वहीं इस बार पुनीत मल्होत्रा 'स्टूडेंट ऑफ द ईयर 2' का निर्देशन कर रहे हैं। पिछली फिल्म में आलिया भट्ट, वरुण धवन और सिद्धार्थ मल्होत्रा जैसे तीन नए चेहरों ने अपना अभिनय करियर शुरु किया था। आज ये तीनों ही इंड्सट्री के बेहतरीन सितारों में गिने जाते हैं।

अप्रैलजूनकेदौरानभारतमेंसोनेकीमांग19प्रतिशतबढ़ीतीनमहीनेमेंबिका76टनसोनाRBI ने लगातार चौथी बार घटाई रेपो दर, बैंकों पर कर्ज और सस्ता करने का बढ़ा दबाव******reserve bank of india rbi cuts repo rate by 25 bps for 4th time in row ने सुस्त पड़ती को गति देने के लिये बुधवार को प्रमुख नीतिगत दर रेपो में 0.35 प्रतिशत की कटौती कर दी। यह लगातार चौथा मौका है जब रेपो दर में कटौती की गयी है। इस कटौती के बाद रेपो दर 5.40 प्रतिशत रह गयी है। रिजर्व बैंक की ओर से में इस कटौती के बाद बैंकों पर कर्ज और सस्ता करने का दबाव बढ़ गया है। इसके चलते आने वाले दिनों में आवास, वाहन और व्यक्तिगत कर्ज पर ब्याज दर कम हो सकती है। रेपो दर वह दर होती है जिस पर केंद्रीय बैंक वाणिज्यिक बैंकों को अल्पकाल के लिये नकदी उपलब्ध कराता है। रेपो दर में इस कटौती के बाद रिजर्व बैंक की रिवर्स रेपो दर भी कम होकर 5.15 प्रतिशत, सीमांत स्थायी सुविधा (एमएसएफ) दर और बैंक दर घटकर 5.65 प्रतिशत रह गई।मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने मुद्रास्फीति के उसके तय लक्ष्य के दायरे में रहने पर गौर करते हुए रेपो दर में कटौती का निर्णय किया। समिति ने कहा कि जून में द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा के बाद भी घरेलू आर्थिक गतिविधियां नरम बनी हुई है। वहीं वैश्विक स्तर पर नरमी तथा दुनिया की दो अर्थव्यवस्थाओं के बीच बढ़ते व्यापार तनाव से इसके नीचे जाने का जोखिम है।समिति ने कहा कि पिछली बार की रेपो दर में कटौती का लाभ धीरे-धीरे वास्तविक अर्थव्यवस्था में पहुंच रहा है, नरम मुद्रास्फीति परिदृश्य नीतिगत कदम उठाने की गुंजाइश देता है ताकि उत्पादन में नकारात्मक अंतर की भरपाई की जा सके। केंद्रीय बैंक ने 2019-20 के लिये सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर के अनुमान को भी सात प्रतिशत से घटाकर 6.9 प्रतिशत कर दिया।उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित महंगाई दर चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 3.1 प्रतिशत रहने का अनुमान है जबकि दूसरी छमाही में इसके 3.5 से 3.7 प्रतिशत के दायरे में रहने का अनुमान है। इसमें घट-बढ़ का जोखिम बराबर है।अप्रैलजूनकेदौरानभारतमेंसोनेकीमांग19प्रतिशतबढ़ीतीनमहीनेमेंबिका76टनसोनाIPL-2018: कब और कहां देख सकते हैं IPL उद्घाटन समारोह और मैच का लाइव टेलीकास्ट और लाइव स्ट्रीमिंग******क्रिकेट जगत की सबसे लोकप्रिय प्रतियोगिता का 11वां सीज़न 7 अप्रैल से शुरू होने जा रहा है. मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में लीग का पहला मैच मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपर किंग्स के बीच होगा. मैच से पहले रंगारंग उद्घाटन समारोह होगा जो मैच से 15 मिनट पहले तक चलेगा.इस बार IPL का सिर्फ़ एक ही उद्घाटन सामरोह होगा हालंकि पिछली बार हर मैच स्थल पर पहले मैच के दौरान समारोह हुआ था. बहरहाल, समारोह में बॉलीवुड की कई जानी मानी हस्तियां परफॉर्म करेंगी. पहले आईपीएल का उद्घाटन समारोह 6 अप्रैल को आयोजित होने जा रहा था लेकिन सीओए के निर्देश के बाद ये 7 अप्रैल को आयोजिक किया जा रहा है. इसकी वजह से धेानी और रोहित शर्मा के अलावा कोई और कप्तान हिस्सा नहीं ले सकेंगे.इस समारोह में लेडी गागा और कैटी पैरी जैसे विदेशी कलाकारों को बुलाने की योजना थी लेकिन बजट कम होने की वजह से फिर ये रद्द कर दिया गया. उद्घाटन समारोह का बजट पहले 50 करोड़ रुपए था लेकिन प्रशासकों की समिति (सीओए) ने इसे कम करके 30 करोड़ रुपए कर दिया था. संचालन परिषद ने अब 18 करोड़ रुपए में इसका आयोजन करने का फैसला किया है. अब बॉलीवुड स्टार ऋतिक रोशन, प्रभुदेवा और परिणीति चोपड़ा इस कार्यक्रम में जलवा बिखेरेंगे.कब शुरू होगा कार्यक्रमआईपीएल के उद्घाटन का कार्यक्रम 6.00 बजे शुरू होगा. ये कार्यक्रम करीब करीब डेढ़ घंटे का होगा तथा मुंबई और चेन्नई के बीच टॉस होने से 15 मिनट पहले यानि सात बजकर 15 मिनट पर समाप्त होगा.कौन कौन कलाकार करेंगे परफॉर्मउद्घाटन समारोह में पहले रणवीर सिंह को आना था, लेकिन उनका कंधा चोटिल हो गया है और अब उनकी जगह ऋतिक रोशन और प्रभुदेवा आ रहे हैं. ऋतिक रोशन और प्रभुदेवा के अलावा जैकलीन फर्नांडीस, परिणीति चोपड़ा और वरुण धवन जैसे कलाकार भी उदघाटन समारोह में कार्यक्रम पेश करेंगे.कहां देख सकेंगे लाइव स्ट्रीमिंगआईपीएल की ओपनिंग सेरेमनी का लाइव प्रसारण शाम 5.30 बजे से स्टार स्पोर्ट्स के चैनल पर किया जाएगा. इसके अलावा इंटरनेट पर हॉट स्टार पर इसकी लाइव स्ट्रीमिंग देखी जा सकती है.

अप्रैल-जून के दौरान भारत में सोने की मांग 19 प्रतिशत बढ़ी, तीन महीने में बिका 76 टन सोना

अप्रैलजूनकेदौरानभारतमेंसोनेकीमांग19प्रतिशतबढ़ीतीनमहीनेमेंबिका76टनसोनाVideo: धारा 370 पर बना भोजपुरी गाना 'ले लेबे जम्मू कश्मीर में जमीन' हुआ वायरल****** भोजपुरी गानाआज के समय में सोशल मीडिया पर धमाल मचाए हुए है। हाल ही में जब जम्मू- कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने का बिल पेश हुआ तोहर तरफ मोदी सरकार की तारीफ होने लगी ऐसे में भोजपुरी सिनेमा जगत इससे पीछे कैसे रह सकता है। हाल ही में आर्टिकल 370 पर एक भोजपुरी गाना रिलीज किया गया। गाने के बोल है 'ले लेबे जम्मू कश्मीर में जमीन'।यूट्यूब पर इस भोजपुरी गाने ने तहलका मचा दिया है। इन गानों में भोजपुरी के जाने माने सिंगर और एक्‍टर्स के गाने हैं जो धारा 370 हटने पर बने हैं। इन गानों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की तारीफ है। यह गाना लोगों को काफी पसंद आ रहा है और देखते ही देखते इस गाने के व्यूज लाखों में पहुंच चुके हैं। इस गाने को शैलेश शर्मा ने गाया है, इसे सुगन शर्मा ने लिखा है।अप्रैलजूनकेदौरानभारतमेंसोनेकीमांग19प्रतिशतबढ़ीतीनमहीनेमेंबिका76टनसोनावास्तु टिप्स : अगर हाथ में नहीं टिकता पैसा तो घर में लगाएं क्रासुला का पौधा, हमेशा भरी रहेगी तिजोरी******कई लोगों की शिकायत रहती है कि घर में हमेशा निगेटिविटी छाई रहती है, धन आता तो है लेकिन पानी की तरह बह जाता है,घर के लोग बीमार रहते है, कलह रहती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार देखा जाए तो ये सब दोष का परिणाम कहा जा सकता है। सकारात्मक ऊर्जा ना हो तो ऐसी चीजें होना आम बात है। इसलिए वास्तु अनुसार क्रासुला का पौधा लगाकर घर पर हावी नकारात्मक ऊर्जा को भगाया जा सकता है।वास्तु शास्त्र में क्रासुला के पौधे को बहुत ही भाग्यशाली कहा गया है। इसे लगाने से घर में धन की आमद बढ़ जाती है और घर में कभी पैसे की किल्लत नहीं रहती।क्रासुला के पौधे को आम भाषा में जेड ट्री, लकी ट्री, मनी ट्री भी कहते हैं। वास्तु में इसे धन का पौधा कहा जाता है। इसे घर में सही दिशा में लगाया जाए तो ये घरवालों के लिए बेहद भाग्यशाली सिद्ध होता है।वास्तु कहता है कि इसे लगाते वक्त ध्यान रखें कि इसे घर में एंट्री गेट यानी प्रवेश द्वार के दाहिनी ओर रखा जाए, तब यह ज्यादा फल देता है। इतना भी ध्यान रखना चाहिए कि इस पर कभी कभार सूर्य की रोशनी भी जरूर पड़नी चाहिए। दक्षिण दिशा में लगाए जाने पर यह उल्टे फल भी देने लगता है जिससे घर में धन की हानि होती है।सिक्के जैसे आकार के पत्तों वाला ये पौधा देखने में बहुत ही सुंदर दिखता है, इसे ज्यादा देखभाल की जरूरत नहीं क्योंकि ये छांव में भी आकार फैला लेता है।वास्तु औऱ फेंगशुई में इसे धन खींचने वाला पौधा माना गया है, मान्यताओं के अनुसार घर आपके हाथ में धन नहीं टिक रहा है तो इस पौधे को लगाने से ना केवल धन का संचय होगा बल्कि धन संपदा भी बढ़ेगी।अप्रैलजूनकेदौरानभारतमेंसोनेकीमांग19प्रतिशतबढ़ीतीनमहीनेमेंबिका76टनसोनाTeam India Schedule 2022: टीम इंडिया का 2022 का पूरा शेड्यूल जारी, जानें कब, कहां और किसके खिलाफ खेलेगी मैच******Highlights आईसीसी द्वारा आज यानी बुधवार को अगले चरण (2023-27) का पूरा कार्यक्रम जारी कर दिया गया है। इसके अनुसार दुनिया की 12 टॉप टीमें कुल 777 अंतरराष्ट्रीय मुकाबले खेलेंगी। इनके अलावा आईसीसी के चार बड़े टूर्नामेंट भी खेले जाएंगे। आईसीसी की तरफ से नई एफटीपी (फ्यूचर टूर प्रोग्राम) के जारी होने के साथ ही भारतीय टीम का आगामी शेड्यूल भी सामने आ गया है। फिलहाल हम आपको बता रहे हैं टीम इंडिया के इस साल होने वाले मैचों के बार में...भारत इस साल कुल 23 अंतरराष्ट्रीय मुकाबले खेलेगा। इसमें उसे 12 वनडे, 9 टी20 और दो टेस्ट मैच खेलने हैं। भारत को कुल पांच द्विपक्षीय सीरीज (Bilateral Series) खेलना है। इसमें उसका सामना ऑस्ट्रेलिया, जिम्बाब्वे, दक्षिण अफ्रीका, न्यूजीलैंड और बांग्लादेश से होगा। यही नहीं भारत आईसीसी के दो बड़े टूर्नामेंट टी20 वर्ल्ड कप और एशिया कप में भी हिस्सा लेगा।भारत के द्विपक्षीय सीरीज की बात करें तो वह इस वक्त जिम्बाब्वे में है और कल यानी 18 अगस्त से तीन मैचों की वनडे सीरीज खेलेगा। यह सीरीज 22 अगस्त तक हरारे में खेली जाएगी। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया की टीम भारत आएगी और यहां 20-25 सितंबर तक तीन टी20 मैचों की सीरीज खेलेगी। ऑस्ट्रेलिया के बाद दक्षिण अफ्रीका की टीम भारत का दौरा करेगी और यहां 28 सितंबर से 11 अक्टूबर तक तीन टी20 और तीन वनडे मैचों की सीरीज खेलेगी।टीम इंडिया नवंबर से विदेशी दौरे पर निकलेगी और सबसे पहले नवंबर में न्यूजीलैंड का दौरा करेगी। यहां वह तीन टी20 और इतने ही मैचों की वनडे सीरीज भी खेलेगी। भारतीय टीम फिर साल के अंत में दिसंबर में बांग्लादेश जाएगी और यहां वह विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के तहत दो टेस्ट मैच खेलेगी और फिर तीन मैचों की वनडे सीरीज के साथ दौरे को समाप्त करेगी।भारतीय टीम इस साल दो बड़े आईसीसी टूर्नामेंटों में भी हिस्सा लेगी। इसमें इसी महीने की 27 तारीख से वह एशिया कप में अपना खिताब बचाने उतरेगी, जहां उसका पहला मुकाबला पाकिस्तान से 28 अगस्त को होगा। यह टूर्नामेंट 11 सितंबर तक यूएई में खेला जाएगा। इसके बाद टीम इंडिया 16 अक्टूबर से 13 नवंबर तक ऑस्ट्रेलिया आयोजित होने वाले टी20 वर्ल्ड कप में शामिल होगी।

अप्रैल-जून के दौरान भारत में सोने की मांग 19 प्रतिशत बढ़ी, तीन महीने में बिका 76 टन सोना

अप्रैलजूनकेदौरानभारतमेंसोनेकीमांग19प्रतिशतबढ़ीतीनमहीनेमेंबिका76टनसोनाजुलाई-अक्‍टूबर के लिए निर्यातकों ने किया 6,500 करोड़ रुपए का रिफंड दावा, जल्‍द निपटान के लिए करें उचित फॉर्म का उपयोग****** माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के क्रियान्वयन के बाद निर्यातकों ने पहले चार महीनों जुलाई से अक्‍टूबर के लिए 6,500 करोड़ रुपए के रिफंड के लिए आवेदन किया है। सरकार ने आज यह जानकारी दी।सरकार ने निर्यातकों से कहा है कि यदि वे अपने दावों का जल्द निपटान चाहते हैं तो रिफंड को उचित फॉर्म और साथ में माल भेजने के बिल की प्रति लगाएं।इसके अलावा कंपनियों से कहा गया है कि वे अगस्त के लिए अंतिम बिक्री रिटर्न जीएसटीआर-एक को जीएसटी नेटवर्क के पोर्टल पर चार दिसंबर से अपलोड कर सकते हैं।वित्त मंत्रालय ने बयान में कहा है कि यह स्पष्ट किया जाता है कि खेप भेजने के बिलों के साथ जुलाई से अक्‍टूबर तक की अवधि के लिए आईजीएसटी रिफंड दावा करीब 6,500 करोड़ रुपए का है। इसी तरह जीएसटीएन पोर्टल पर डाले गए आरएफडी-01ए आवेदनों के हिसाब से इनपुट या इनपुट सेवाओं पर बिना इस्तेमाल वाला क्रेडिट 30 करोड़ रुपए बैठता है।केंद्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीईसी) ने पिछले महीने ऐसे निर्यातकों का रिफंड शुरू किया था, जिन्होंने एकीकृत जीएसटी (आईजीएसटी) का भुगतान किया है और टेबल 6ए भरने के बाद माल भेजने के बिलों के जरिये रिफंड के लिए आवेदन किया है।अप्रैलजूनकेदौरानभारतमेंसोनेकीमांग19प्रतिशतबढ़ीतीनमहीनेमेंबिका76टनसोनाखुशखबरी: सोना हुआ सस्‍ता, जानिए 10 ग्राम के लिए कितनी चुकानी होगी आपको कीमत******Gold price big fall today 26 April check 10 gram rate listस्थानीय सर्राफा बाजार में सोमवार को सोना 81 रुपये की गिरावट के साथ 46,976 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गया। एचडीएफसी सिक्युरिटीज ने यह जानकारी दी है। इससे पिछले कारोबारी सत्र में सोने का भाव 47,057 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। बाजार जानकारों के मुताबिक डॉलर के मुकाबले रुपये की दर में सुधार आने से सर्राफा बाजार में गिरावट रही। चांदी का भाव भी इस दौरान 984 रुपये गिरकर 67,987 रुपये प्रति किलो रह गया। इससे पिछले कारोबारी सत्र में यह 68,971 रुपये पर बंद हुआ था। सोमवार को आरंभिक कारोबार में रुपया 24 पैसे की तेजी के साथ 74.77 रुपये प्रति डॉलर हो गया। अंतरराष्ट्रीय बाजार में मामूली बढ़कर 1,779 डॉलर प्रति औंस हो गया, जबकि चांदी का भाव 26.02 डॉलर प्रति औंस पर लगभग अपरिवर्तित रहा। एचडीएफसी सिक्युरिटीज के वरिष्ठ विश्लेषक (जिंस) तपन पटेल ने कहा कि डॉलर के कमजोर होने और महामारी को लेकर चिंता के चलते सोने की कीमतों को समर्थन मिल रहा है।मांग कम होने के साथ सटोरियों के सौदा कम किये जाने से सोमवार को वायदा बाजार में सोने का भाव 97 रुपये घटकर 47,435 रुपये प्रति 10 ग्राम रहा। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में जून महीने की डिलिवरी के लिए सोने की कीमत 97 रुपये यानी 0.2 प्रतिशत टूटकर 47,435 रुपये प्रति 10 ग्राम रही। इसमें 10,968 लॉट के लिये कारोबार हुआ। विश्लेषकों के अनुसार सोने के भाव में नरमी का कारण मांग में कमी के साथ प्रतिभागियों का सौदा घटाया जाना है। वैश्विक स्तर पर न्यूयार्क में सोने की कीमत 0.10 प्रतिशत की गिरावट के साथ 1,776 डॉलर प्रति औंस रही।कारोबारियों द्वारा अपने सौदों का आकार कम करने के कारण सोमवार को वायदा बाजार में कच्चा तेल कीमत 41 रुपये की गिरावट के साथ 4,611 रुपये प्रति बैरल रह गयी। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में कच्चातेल के मई डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 41 रुपये अथवा 0.88 प्रतिशत की गिरावट के साथ 4,611 रुपये प्रति बैर रह गई जिसमें 5,271 लॉट के लिए कारोबार हुआ। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि कच्चातेल कीमतों में गिरावट आने का मुख्य कारण कमजोर हाजिर मांग के बीच व्यापारियों द्वारा अपने सौदों की कटान करना था। वहीं, वैश्विक स्तर पर, न्यूयॉर्क में वेस्ट टैक्सास इंटरमीडिएट कच्चे तेल का दाम 1.09 प्रतिशत की गिरावट के साथ 61.46 डॉलर प्रति बैरल रह गया। वहीं, वैश्विक मानक माने जाने वाले ब्रेंट क्रूड का दाम 1.12 प्रतिशत घटकर 65.37 डॉलर प्रति बैरल रह गया।

अप्रैल-जून के दौरान भारत में सोने की मांग 19 प्रतिशत बढ़ी, तीन महीने में बिका 76 टन सोना

अप्रैलजूनकेदौरानभारतमेंसोनेकीमांग19प्रतिशतबढ़ीतीनमहीनेमेंबिका76टनसोनाReliance Jio ने मार्च में 79 लाख से अधिक नए ग्राहक जोड़े, एयरटेल और वोडाफोन आइडिया काफी पीछे******Reliance Jio ने मार्च में 79 लाख से अधिक नए ग्राहक जोड़े देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी रिलायंस जियो के ग्राहकों की संख्या इस साल मार्च में 79 लाख से अधिक बढ़ी। यह दो अन्य प्रमुख दूरसंचार कंपनियों भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया के संयुक्त रूप से बढ़े ग्राहकों की संख्या से भी अधिक है। भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) के आंकड़े के अनुसार मार्च महीने में भारती एयरटेल ने 40.5 लाख ग्राहक (मोबाइल फोन) जोड़े जबकि वोडफोन आइडिया के ग्राहकों की संख्या 10.8 लाख बढ़ी।रिलायंस जियो के 79.19 लाख नये ग्राहकों के साथ उसके मोबाइल फोन ग्राहकों की संख्या बढ़कर करीब 42.29 करोड़ हो गयी। एयरटेल के उपयोगकर्ताओं की संख्या मार्च 2021 में बढ़कर 35.23 करोड़ पर पहुंच गयी। आंकड़े के अनुसार वोडाफोन आइडिया के ग्राहकों की संख्या आलोच्य महीने में 10.8 लाख बढ़कर 28.37 करोड़ पर पहुंच गयी।ट्राई के ग्राहकों के मासिक आंकड़े के अनुसार देश में मार्च 2021 में टेलीफोन ग्राहकों की संख्या मासिक आधार पर 1.12 प्रतिशत बढ़कर 120.1 करोड़ पहुंच गयी। ट्राई ने बयान में कहा, ‘‘शहरी और ग्रामीण टेलीफोन ग्राहकों की संख्या में मार्च 2021 में मासिक आधार पर क्रमश: 0.92 प्रतिशत और 1.37 प्रतिशत की वृद्धि हुई।’’

अप्रैलजूनकेदौरानभारतमेंसोनेकीमांग19प्रतिशतबढ़ीतीनमहीनेमेंबिका76टनसोनाअखिलेश पर भड़के चाचा शिवपाल, बोले- 'अगर मुझसे दिक्कत है तो पार्टी से निकाल दें'****** समाजवादी पार्टी से विधायक के भाजपा में शामिल होने की चर्चा के बीच दोनों के बीच मतभेद खुलकर सामने आ गया। अब दोनों एक दूसरे के खिलाफ बोल रहे हैं। इसी बीच शिवपाल ने कहा कि अगर उनको लगता है कि भाजपा से मेरे संपर्क हैं तो मुझे पार्टी से निकाल दें। वह समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष हैं और मैं तो पार्टी का विधायक हूं।शिवपाल सिंह यादव ने गुरुवार को एक निजी चैनल से बातचीत में कहा कि समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष ने बीते दिनों से कहा कि मेरे भाजपा से संपर्क हैं। अगर उनको लगता है कि भाजपा से मेरे संपर्क हैं तो मुझे विधानमंडल दल से निकाल क्यों नहीं देते हैं। शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि मैं समाजवादी पार्टी के 111 विधायकों में से एक हूं। उनको तो मुझे समाजवादी पार्टी से निकालने का अधिकार है। उन्होंने कहा कि अगर उनको हमसे कोई भी दिक्कत है तो हमको पार्टी से बाहर कर दें।सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर से मुलाकात पर शिवपाल ने कहा कि मेरी उनसे कोई मुलाकत नहीं हुई। हो सकता है कि वो मेरे ही नाम के किसी व्यक्ति से मुलाकात की बात कर रहे हों। भाजपा में शामिल होने पर उन्होंने कहा कि इसका खुलासा समय आने पर किया जाएगा कि क्या कर रहा हूं? कहां जा रहा हूं? किसी से कुछ भी नहीं छुपाऊंगा। शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि मैं तो आजम खां साहब से लगातार संपर्क में हूं। सीतापुर जेल में उनकी तबीयत बहुत खराब है। जल्दी ही सीतापुर जेल जाकर आजम खां साहब से मुलाकात के लिए फिर जाऊंगा।शिवपाल लगातार भाजपा व मुख्यमंत्री की तारीफ कर रहे हैं। बुधवार को उनका योगी प्रेम फिर दिखा। जसवंतनगर के सिद्धार्थ महाविद्यालय लुधपुरा में छात्र-छात्राओं को स्मार्टफोन और टैबलेट वितरण समारोह में उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ की। उन्होंने कहा कि वर्ष 2012 में जब प्रदेश में सपा की सरकार थी, तब विद्यार्थियों का तकनीकी ज्ञान बढ़ाने के लिए लैपटॉप वितरण आरंभ कराया गया। सपा सरकार की इस योजना को निरंतर आगे बढ़ाने के लिए योगी सरकार का सहयोग मिला। वे धन्यवाद और बधाई के पात्र हैं। महत्वपूर्ण योजना को आगे बढ़ाने की वजह से छात्र-छात्राओं के हाथों में आधुनिक तकनीक पहुंच रही है।(इनपुट- IANS)अप्रैलजूनकेदौरानभारतमेंसोनेकीमांग19प्रतिशतबढ़ीतीनमहीनेमेंबिका76टनसोनाMonkeypox in India: केरल में मंकीपॉक्स का एक और मामला, जानें क्या हैं इसके लक्षण और बचाव के तरीके******Highlights कोरोना वायरस का कहर अभी पूरी तरह खत्म भी नहीं हो पाया था और अब मंकीपॉक्स ने लोगों की चिंता को बढ़ा दिया है। केरल में मंकीपॉक्स का एक और मामला सामने आया है। मलप्पुरम में एक 30 वर्षीय शख्स का इलाज चल रहा है। वह 27 जुलाई को यूएई से कोझिकोड एयरपोर्ट आया था। इस बात की जानकारी केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने दी है। बता दें कि केरल में मंकीपॉक्स (Monkeypox) का यह पांचवां मामला है।मंकीपॉक्स से देश में एक व्यक्ति की हो चुकी है मौतकेरल सरकार ने सोमवार को इस बात की पुष्टि की थी कि 30 जुलाई को 22 वर्षीय जिस व्यक्ति की मौत हुई, वह मंकीपॉक्स (Monkeypox) से संक्रमित था। इस तरह देश में मंकीपॉक्स से यह पहली मौत है। राज्य के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने मीडिया से कहा कि नेशनल इंस्टीट्यूट आफ वायरोलॉजी (NIV), पुणे को भेजे गए नमूनों में संक्रमण मिला है और यह पश्चिम अफ्रीकी संस्करण था।मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने दी जानकारीविजयन ने कहा कि 22 जुलाई को राज्य पहुंचा यह व्यक्ति इससे पहले 19 जुलाई को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में मंकीपॉक्स (Monkeypox) से संक्रमित पाया गया था। राज्य की स्वास्थ्य मंत्री वीणा जॉर्ज ने एक प्रेस रिलीज में कहा, "संबंधित व्यक्ति की तबीयत बिगड़ने के बाद उसे 27 जुलाई को त्रिशूर स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन उसके रिश्तेदारों ने यूएई से मिली जांच रिपोर्ट के बारे में 30 जुलाई को अस्पताल के अधिकारियों को सूचित किया।" जॉर्ज ने कहा कि संबंधित व्यक्ति के परिवार के सदस्यों, दोस्तों, एक सहायक और फुटबॉल खेलने वालों सहित 20 लोग उसके साथ हाई रिस्क कैटेगरी में संपर्क में आए।मंकीपॉक्स के लक्षण क्या हैं?मंकीपॉक्स से अब तक कितनी मौतें हुईंमई के बाद 78 देशों में मंकीपॉक्स (Monkeypox) के लगभग 20,000 से ज्यादा मामले सामने आए हैं। इसमें अफ्रीका 75 से ज्यादा मौतें हुई हैं, जोकि सबसे ज्यादा है। इसके अलावा ब्राजील में एक और स्पेन में दो लोगों की मंकीपॉक्स की वजह से मौत हुई है।मंकीपॉक्स पर क्या हैं गाइडलाइन

अप्रैलजूनकेदौरानभारतमेंसोनेकीमांग19प्रतिशतबढ़ीतीनमहीनेमेंबिका76टनसोनाचीनी उत्‍पादन में कमी की आशंका, सरकार ने 5 लाख टन कच्ची चीनी के शुल्क मुक्त आयात की अनुमति दी****** चीनी उत्पादन में कमी आने की संभावनाओं के बीच इसकी घरेलू आपूर्ति को बढ़ाने और बढ़ती कीमतों को नियंत्रित करने के लिए सरकार ने 5 लाख टन कच्ची चीनी के शुल्क मुक्त आयात की अनुमति दी है। संसद में पेश एक अधिसूचना में बताया गया है कि टैरिफ रेट कोटा (TRQ) के तहत 12 जून तक शुल्क मुक्त आयात की अनुमति होगी।अधिसूचना का ब्यौरा देते हुए एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि दक्षिणी बंदरगाहों को 3 लाख टन कच्ची चीनी का आयात करने की अनुमति होगी जबकि पश्चिमी तट के बंदरगाहों को 1.5 लाख टन और पूर्वी तट के बंदरगाहों को 50,000 टन का आयात करने की अनुमति होगी।अपने कारोबारी संबंधों को रफ्तार देने के लिए CPEC में सहयोगी बनना चाहता है ब्रिटेन अधिकारी ने बताया कि प्रत्येक रिफाइनरी के लिए आयात और खेप की मात्रा विदेश व्यापार महानिदेशालय (DGFT) द्वारा निर्धारित की जाएगी जो कुल रिफाइनिंग क्षमता, चालू वर्ष में क्षमता उपयोग और स्थान विशेष में मांग जैसे मानदंडों पर आधारित होगा।उन्होंने कहा कि आयात करने के लिए रिफाइनिंग कंपनियों को DGFT में आवेदन करना होगा। आयात के खेप की मात्रा की सीमा निर्धारित की गई है ताकि अगले चीनी विपणन वर्ष पर कोई प्रतिकूल प्रभाव न हो तथा सितंबर में समाप्त हो रहे चालू विपणन वर्ष 2016-17 के दौरान सट्टेबाजी पर अंकुश रहे।सरकार का नया आदेश, भारत में 182 दिन से अधिक रहने वाले विदेशियों के लिए अनिवार्य हुआ आधार कार्ड भारत दुनिया में चीनी का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक और सबसे बड़ा उपभोक्ता देश है। जहां चीनी उत्पादन 2.45 से 2.5 करोड़ टन की वार्षिक आवश्यकता के मुकाबले काफी कम रहने का अनुमान है। सरकार के आंकड़ों के अनुसार, देश में सूखे की वजह से चीनी का उत्पादन चालू चीनी विपणन वर्ष 2016-17 में 2.03 करोड़ टन रहने का अनुमान है जबकि पिछले साल उत्पादन 2.51 करोड़ टन था।पिछले साल के 77 लाख टन के बचे हुए स्टॉक के साथ इस वर्ष देश में 2.8 करोड़ टन चीनी उपलब्ध होगी जो वार्षिक आवश्यकता के मुकाबले काफी अधिक होगी। देश में करीब 29 रिफाइनिंग कंपनियां हैं।अप्रैलजूनकेदौरानभारतमेंसोनेकीमांग19प्रतिशतबढ़ीतीनमहीनेमेंबिका76टनसोनारिलायंस जियो को सरकार दे रही है भरपूर मदद, BSNL कर्मचारी यूनियनों ने किया 3 दिसंबर से हड़ताल का ऐलान******BSNL सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी की कर्मचारी यूनियनों ने दूरसंचार क्षेत्र के वित्तीय संकट के लिए निजी कंपनी रिलायंस जियो को जिम्मेदार ठहराया है। यूनियनों का आरोप है कि सरकार अन्य कंपनियों की तुलना में रिलायंस जियो को संरक्षण दे रही है। यूनियनों ने इसके विरोध में तीन दिसंबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की घोषणा की है। कर्मचारी यूनियन का दावा है कि सरकार ने बीएसएनएल को 4जी सेवाओं के लिए स्पेक्ट्रम का आवंटन इसलिए नहीं किया है ताकि वह जियो के साथ प्रतिस्पर्धा नहीं कर सके। रिलायंस जियो ने हालांकि, इन आरोपों पर टिप्पणी नहीं की है।बीएसएनएल की यूनियनों ने संयुक्त बयान में कहा कि फिलहाल सूचना दूरसंचार क्षेत्र संकट में है। इसकी प्रमुख वजह यह है कि मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली कंपनी ने बाजार बिगाड़ने वाली दरें रखी हैं। जियो का खेल बीएसएनएल सहित अपने सभी प्रतिद्वंद्वियों को पूरी तरह बाजार से गायब करना है।ऑल यूनियंस एंड एसोसिएशंस ऑफ बीएसएनएल (एयूएबी) ने आरोप लगाया है कि पैसे की ताकत पर रिलायंस जियो लागत से कम दरें पेश कर रही है। एयूएबी ने कहा कि निजी क्षेत्र की कई दूरसंचार कंपनियां एयरसेल, टाटा टेलीसर्विसेज, अनिल अंबानी की रिलायंस टेलीकम्युनिकेशंस और टेलीनॉर पहले ही अपने मोबाइल सेवा कारोबार को बंद कर चुकी हैं।बयान में कहा गया है कि पूरी प्रतिस्पर्धा समाप्त होने के बाद जियो दरों में जोरदार बढ़ोतरी करेगी।बयान में कहा गया है कि उसके बाद जियो कॉल और डाटा शुल्कों में भारी वृद्धि कर जनता को लूटेगी। यह हमारे लिए चिंता का विषय है। रिलायंस जियो को खुलेआम नरेंद्र मोदी सरकार की ओर से संरक्षण मिल रहा है। प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओक) से तत्काल इस पर प्रतिक्रिया नहीं मिल सकी।एयूएबी ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी सरकार से 4जी स्पेक्ट्रम की मांग करती आ रही है लेकिन सरकार के कान में जूं तक नहीं रेंग रही है। यह सरकार की सोची समझी रणनीति है ताकि सरकारी कंपनी को रिलायंस जियो के साथ प्रतिस्पर्धा से रोका जा सके।एयूएबी ने कहा है कि बीएसएनएल के सभी अधिकारी और कर्मचारी तीन दिसंबर 2018 से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जा रहे हैं।

अप्रैलजूनकेदौरानभारतमेंसोनेकीमांग19प्रतिशतबढ़ीतीनमहीनेमेंबिका76टनसोनाAll Time Low: आने वाली है "महंगाई की सुनामी", रुपया 77.60 प्रति डॉलर के अब तक के सबसे निचले स्तर पर******Dollarअगर अभी महंगाई आपकी कमर तोड़ रही है तो अपने कंधे मजबूत कर लीजिए। रुपये ने आज एक बार फिर एतिहासिक गहराई छू ली है। विदेशी बाजारों में मजबूत अमेरिकी डॉलर तथा विदेशी कोषों की निकासी के बीच अंतर-बैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में बुधवार को रुपया 16 पैसे की गिरावट के साथ 77.60 प्रति डॉलर (अस्थायी) के अपने सर्वकालिक निचले स्तर पर बंद हुआ।अंतर-बैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया डॉलर के मुकाबले 77.57 पर कमजोर खुला। अमेरिकी फेडरल रिजर्व के प्रमुख जेरोम पावेल की आक्रामक टिप्पणियों के बाद वैश्विक बाजार में डॉलर में तेजी लौटने से रुपया अपने दिन के निचले स्तर 77.61 प्रति डॉलर तक गया।अमेरिका के ऊंचे मुद्रास्फीति के आंकड़ों के बाद ब्याज दर में आक्रामक वृद्धि की आशंका तथा जोखिम उठाने की धारणा में सुधार के बीच वैश्विक बाजारों में डॉलर के दो दशक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया। इसका असर भारत सहित दुनिया भर के बाजार पर देखने को मिला है।कारोबार के अंत में रुपया 77.60 पर बंद हुआ, जो पिछले बंद भाव 77.44 से 16 पैसे की गिरावट को दर्शाता है। इस बीच, छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकी डॉलर की स्थिति को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.3 प्रतिशत बढ़कर 103.59 हो गया। वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड वायदा का दाम एक प्रतिशत बढ़कर 113 डॉलर प्रति बैरल हो गया।शेयर बाजार के आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी संस्थागत निवेशक पूंजी बाजार में शुद्ध बिकवाल रहे और उन्होंने मंगलवार को 2,192.44 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे।विदेशों में बच्चों को पढ़ाना और घूमना महंगा होगा: भारत में उच्च शिक्षा के लिए विदेश जाने का चलन बहुत पुराना है। भारतीय छात्र उच्च शिक्षा के लिए ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, यूरोप जाते हैं। रुपये की गिरावट भारत में विदेश-शिक्षा के इस रुझान पर बड़ा असर डालेगा क्योंकि अब समान शिक्षा के लिए पहले की तुलना 15 से 20 फीसदी ज्यादा खर्च करना पड़ेगा।रुपये टूटने से भारत में महंगाई और बढ़ जाएगी। पेट्रोल-डीजल से लेकर तमाम जरूरी के सामान के दाम बढ़ने स महंगाई बढ़ेगी। वहीं, दिनों-दिन रुपए की बिगड़ रही हालत निवेशकों को भारतीय अर्थव्यवस्था के हालात के संकेत भी दे रही है। इससे निवेशकों के रुख पर भी बुरा असर होगा।रुपये की कमजोरी से सबसे ज्यादा नुकसान कच्चे तेल के आयात पर होगा। कच्चे तेल का आयात बिल में बढ़ोतरी होगी और विदेशी मुद्रा ज्यादा खर्च करना होगा।रुपये की कमजोरी से इलेक्ट्रॉनिक क्षेत्र को नुकसान होगा, क्योंकि महंगे इलेक्ट्रॉनिक गु्ड्स आयात करने होंगे। नकारात्मक असर जेम्स एंड ज्वैलरी सेक्टर पर दिखाई देगा। भारत बड़ी मात्रा में जरूरी उर्वरकों और रसायन का आयात करता है। रुपये की कमजोरी से यह भी महंगा होगा।अप्रैलजूनकेदौरानभारतमेंसोनेकीमांग19प्रतिशतबढ़ीतीनमहीनेमेंबिका76टनसोनाBhupendra Singh Chaudhary: भूपेंद्र सिंह चौधरी को मिली यूपी BJP की कमान, 2024 आम चुनाव से पहले पार्टी ने खेला बड़ा दांव******Highlights 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी ने यूपी में बड़ा दांव चला है। बीजेपी ने पश्चिमी यूपी के बड़े जाट नेता को यूपी बीजेपी की कमान सौंप दी है। भूपेंद्र सिंह चौधरी यूपी सरकार में इस वक्त पंचायतीराज मंत्री हैं और बीजेपी के जाट वोट बैंक को साधने के लिए वह सबसे मजबूत नेता माने जा रहे हैं। भूपेंद्र चौधरी को पार्टी की कमान देने से साफ है कि पार्टी जाट लैंड में अपनी जमीन मजबूत करना चाहती है। पार्टी भूपेंद्र चौधरी के सहारे सपा और RLD गठबंधन के असर को कम करना चाहती है।2022 के विधानसभा चुनाव में सपा-आरएलडी गठबंधन ने पश्चिमी यूपी में बड़ी सेंध लगाने की कोशिश की थी लेकिन वो इसमें कामयाब नहीं हो सकी। कुछ सीटों पर बीजेपी को कड़ी टक्कर जरूर मिली थी ऐसे में बीजेपी भूपेंद्र चौधरी के सहारे पश्चिमी यूपी में अपनी जीत को पुख्ता करने में लगी है। भूपेंद्र चौधरी केंद्रीय गृहमंत्री के करीबी हैं और पुराने स्वयं सेवक हैं। उन्हें संगठन में काम करने का लंबा अनुभव है।भूपेंद्र चौधरी को यूपी बीजेपी का अध्यक्ष बनाए जाने के पीछे पार्टी एक तीर से कई निशाने साधने की कोशिश में है। भूपेंद्र चौधरी पश्चिमी यूपी के बड़े जाट नेता है। किसान आंदोलन के दौरान भूपेंद्र चौधरी ने जाट नेताओं को बीजेपी के पाले में बनाए रखा था जिसका फायदा बीजेपी के 2022 के विधानसभा चुनावों में हुआ था। बीजेपी भूपेंद्र चौधरी के सहारे 2024 में 2014 के नतीजों को दोहराना चाहती है। पार्टी भूपेंद्र चौधरी को अध्यक्ष बनाकर जाट वोटरों को एकजुट करना चाहती है साथ ही गन्ना किसानों की नाराज़गी को भी दूर करने की कोशिश करेगी।2024 के लोकसभा चुनाव को देखते हुए बीजेपी यूपी में जाट वोटर्स को साधने की तैयारी कर रही है। इस सियासी बिसात में संगठन का लंबा तजुर्बा, जाट बिरादरी और राजनीतिक अनुभव प्रदेश अध्यक्ष बनने के लिए कैबिनेट मंत्री चौधरी भूपेंद्र सिंह के पक्ष में थे। भूपेंद्र चौधरी साल 2007 से 2012 तक पश्चिमी उत्तर प्रदेश के क्षेत्रीय मंत्री रहे। वहीं, साल 2011-2018 तक लगातार 3 बार पश्चिमी यूपी के क्षेत्रीय अध्यक्ष भी रहे हैं।यूपी में जाट वोटर 3 से 4 फीसदी हैं लेकिन पश्चिमी यूपी में इनकी संख्या 17 फीसदी से ज्यादा है। पार्टी की नजर पश्चिमी यूपी की 20 लोकसभा सीटों पर है जहां जाट वोटर्स का खासा असर है। वहीं 12 लोकसभा की सीटें ऐसी हैं जहां जाट वोटर हार जीत तय करते हैं। यूपी की 120 सीटों पर जाटों का प्रभाव है जबकि 30 विधानसभा सीटों में जाट निर्णायक हैं। बीजेपी भूपेंद्र चौधरी को यूपी बीजेपी की कमान सौंपकर पश्चिमी यूपी के 12 जिलों सहारनपुर, शामली, मुजफ्फरनगर, मेरठ, बागपत, बिजनौर, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर, मुरादाबाद, संभल, अमरोहा, बुलंदशहर, हाथरस, अलीगढ़ और फिरोजाबाद के जाट और ओबीसी वोटर्स को आपने पाले में करने की कोशिश में है।

पिछला:No Petrol: श्रीलंका के पास पेट्रोल खरीदने का पैसा खत्म, सरकार ने कहा 'लोग तेल के लिए लाइन न लगाएं'
अगला:RBI के पास है कितना सोना और बीते साल कितनी हुई आय, जानिये रिजर्व बैंक की पूरी बैलेंस शीट
संबंधित आलेख